- सेम

सेम सेम

बीन की पत्तियों का भृंग (लीफ़ बीटल)

कीट

Cerotoma trifurcata


संक्षेप में

  • जड़ों और जड़ों की गांठों पर खाने से नुकसान.
  • पत्तियों और विकसित हो रही फलियों को खाने से नुकसान.
  • ये वायरस के रोगवाहक हैं ।.
 - सेम

सेम सेम

लक्षण

लार्वा और वयस्क जड़ों, जड़ो की गांठों, बीजपत्र, पत्तियों (अक्सर निचली सतह) और फली को खाते हैं। जड़ और संवहनी ऊतकों के फटने से नाइट्रोजन नियतन कम हो सकता है। पत्ती की सतह पर होने वाले नुकसान बिखरे छोटे, लगभग गोल छेद के रूप में दिखाई देते हैं। खाई गई फलियां पर दाग़ दिखाई देते हैं। फली पर भक्षण के कारण पैदावार और बीज की गुणवत्ता कम हो जाती है। क्षतिग्रस्त फलियों में सूक्ष्मजीवों, जैसे कि कवक और जीवाणु, के प्रवेश के लिए स्थान बन जाता है। यदि केरोटोमा ट्राइफ़ुर्काटा मौसम में जल्दी होता है, तो अंकुरणों के घाव, पत्तियों के झड़ने और बीज के बदरंग होना का कारण बन सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

वयस्क 6 मिमी लंबे और गहरे पीले से लाल रंग के होते हैं। उनके पंख विशेष आयातकार निशानों से ढके हुए होते हैं और उनकी गर्दन पर एक काला त्रिकोण होता है। वयस्क मादाएं पौधे के तनों के पास मिट्टी के ऊपरी दो इंच के हिस्सों में अंडे देती हैं। अपने जीवन में एक मादा 125 से 250 अंडे देती है। मिट्टी के तापमान के आधार पर अंडों से 4 से 14 दिनों के भीतर लार्वा निकलते हैं। लार्वा सफ़ेद रंग के होते हैं और उनका सिर गहरा भूरा या काला होता है। वयस्क सोयाबीन के खेतों के आसपास विविध स्थानों में अपनी सर्दियां बिताते हैं। फली की पत्ती का भृंग अनेक विषाणुओं का रोगवाहक होता है।

जैविक नियंत्रण

फिलहाल, कीट का कोई प्रभावी जैविक नियंत्रण नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एक एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। यदि क्षति के कारण पैदावार में काफ़ी कमी की संभावना हो, तो रसायनों के उपयोग के बारे में विचार करें। कीट की आबादी को कम करने के लिए पायरेथ्रोइड, लाम्ब्डा-सायहेलोथ्रिन या डाईमिथोएट के समूह पर आधारित कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • कीड़ों को गिनें और मौसम के शुरू में ही पौधे के नुकसान का आकलन करें.
  • व्यापक रूप से फसल चक्रिकरण करें.
  • गहरी जुताई करें और आसपास अन्य फलियां के रोपण से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!