- अन्य

अन्य अन्य

फली की नई डंठलों का छिद्रक (बीन शूट बोरर)

कीट

Epinotia aporema


संक्षेप में

  • ये पत्तियों और टहनी को खा कर नुकसान पहुँचाते हैं.
  • कलियों और फूलों को भी खा कर नुकसान पहुँचाते हैं.
  • इससे पौधे का विकास अवरुद्ध हो जाता है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

एपिनोटिया अपोरेमा के लार्वा ज़्यादातर वनस्पति भागों को खाते हैं, जिससे नुकसान पहुँचता है। ये ज़्यादातर नई पत्तियां खाते हैं, जिससे विकास में कमी हो जाती है। लार्वा के खाने से फूल की कलियाँ गंभीर रूप से प्रभावित होती हैं और बीज उत्पादन को रोकती हैं, जो चारा फलियों, अल्फ़ाअल्फ़ा और कमल जैसी महत्वपूर्ण वस्तु के लिए ज़रूरी हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये गुबरैले पौधे के अंकुरित होने से परिपक्व होने तक मौजूद हो सकते हैं। आमतौर पर, रोपण के लगभग 30 दिन बाद वनस्पति चरण के दौरान लार्वा दिखाई देते हैं, वे पीले से हरे रंग के हो सकते हैं और उनका सिर काला और पेट क्षेत्र का पहला भाग काले रंग के होते हैं। स्पष्ट छोटे कांटें उनकी त्वचा से बाहर निकलते हैं। उनके पास छोटी जालियों सहित लगभग 30 से 40 पैर होते हैं। तापमान और पर्यावरण स्थितियों पर निर्भर करते हुए उनका पूरा जीवन चक्र 33 से 46 दिन का होता है। समशीतोष्ण क्षेत्रों में 31 डिग्री सेल्सियस से 34 डिग्री सेल्सियस में कीट पूरे साल सक्रिय होते हैं, इस समय के दौरान इनकी पांच से छः पीढ़ियां होती हैं।

जैविक नियंत्रण

यदि उपलब्ध और अनुमोदित हो, तो जैविक नियंत्रण के लिए ऐपिनोटीया अपोरेमा ग्रैनुलोवायरस (EpapGV) का प्रयोग करें। लार्वा द्वारा खाए जाने पर विषाणु धारक पौधों के ऊतकों में व्यापक संक्रमण का कारण बनता है। लार्वा के खिलाफ़ बैसिलस थुरिंजियेंसिस का उपयोग करें।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचारों के साथ सुरक्षात्मक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। लार्वा की बहुतायत को कम करने के लिए आम कीटनाशकों का उपयोग करें। विभिन्न सक्रिय सामग्रियों के बीच बदलाव करें और अच्छे कृषि अभ्यास के बाद काम करें।

निवारक उपाय

  • फ़ेरोमोन जाल का उपयोग करें.
  • अपने पौधों की नियमित रूप से जाँच करें और अगर पौधों की एक बड़ी संख्या में लक्षण दिखते हैं, तो रोग प्रबंधन उपायों का प्रयोग करें.
  • प्रतिरोधी प्रजातियों की फसलों के साथ फसल का नियमित चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!