- आलू

आलू आलू

आलू कंद का पतंगा

कीट

Phthorimaea operculella


संक्षेप में

  • लार्वा आलू की पत्तियों, डंठलों, और सबसे महत्वपूर्ण, कंदों पर हमला करता है.
  • आंतरिक ऊतक खाए जाते हैं, लेकिन बाह्य त्वचा (एपिडर्मिस) नहीं, जिससे पारदर्शी छाले बन जाते हैं.
  • पतली सुरंगें कंद की सतह पर दिखाई देती हैं.
  • गूदे पर अनियमित गहरे बिल देखे जा सकते हैं।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

यह पतंगा कई प्रकार के सोलेनेशियस फसलों पर भोजन कर सकता है, लेकिन आलू इसका पसंदीदा है। लार्वा आलू की पत्तियों, तनों, डंठलों, और कंदों (खेत में या भंडारण में) पर हमला करते हैं। वे पारदर्शी छाले बनाते हुए बाह्य त्वचा (एपिडर्मिस) को छूए बिना पत्तियों के आंतरिक ऊतक खाते हैं। तने कमज़ोर हो सकते हैं या टूट सकते हैं, जिससे पौधे की मृत्यु हो सकती है। लार्वा आंखों के माध्यम से कंद में प्रवेश करते हैं और सतह पर पतली सुरंगें बनाते हैं या गूदे में गहरे अनियमित बिल खोदते हैं। प्रवेश बिंदुओं पर लार्वा का मल दिखाई देता है, जो कवक और जीवाणु रोगों के लिए पौधे को संवेदनशील बना देता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

वयस्क पतंगों का एक लंबे एंटीना के साथ स्लेटी रंग का लंबा शरीर होता है, और उनके गहरे धब्बों वाले संकीर्ण भूरे अग्र पंख और लंबे झालर वाले हल्के-स्लेटी रंग के पिछले पंख होते हैं। यह ज़्यादातर रात में निकलते हैं और प्रकाश की ओर आकर्षित होते हैं। अंडे पत्तियों पर या सूखी मिट्टी में ऊपर दिखने वाले कंदों की कलियों पर एक-एक करके या समूहों में दिए जाते हैं। यदि उन्हें लंबे समय तक 4 डिग्री सेल्सियस से नीचे तापमान पर रखा जाए, तो उसमें से लार्वा नहीं निकल पाते। लार्वा के गहरे भूरे रंग के सिर और हल्के भूरे से गुलाबी शरीर होते हैं। वे डंठलों, युवा पौधों या पत्तियों की शिराओं में और बाद में कंदों में अनियमित बिल खोदते हैं। उनके जीवन चक्र के लिए 25 डिग्री सेल्सियस इष्टतम तापमान है, लेकिन सहिष्णुता 15 से 40 डिग्री सेल्सियस के बीच रहती है। शुष्क मिट्टी में दरारें लार्वा को पनपने में मदद करती हैं।

जैविक नियंत्रण

संतरे के छिलके का अर्क, और पिथिरेंथोस टोरटोसस या इफ़ीओना स्काब्रा प्रजातियों जैसे कई पौधों के अर्क कीट की प्रजनन क्षमता को कम करता है। ब्रेकन गेलेचिया, कोपिडोसोमा कोएहलेरी या ट्राइकोग्रामा परजीवी प्रजातियां पतंगे की संख्या काफ़ी हद तक कम कर सकते हैं। शिकारियों में चींटियां और लेडीबर्ड शामिल हैं। ग्रेन्युलोवायरस या बैसिलस थुरिंजियेन्सिस को लगाने से दो सप्ताहों के भीतर 80% कीटों की मृत्यु हो सकती है। कुछ देशों में, नीलगिरी या लांताना की पत्तियों के साथ भंडारण के दौरान बोरे को ढाक कर क्षति को कम किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। ऑर्गेनोफ़ोसफ़ेट्स समूह के कीटनाशक पत्तियों पर छिड़के जा सकते हैं। लार्वा के हमले को रोकने के लिए पायरेथ्रोइड्स को बीज पर लगाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों से लिए गए बीज कंद का उपयोग करें.
  • प्रतिरोधी या सहिष्णु किस्मों के बारे में पता करें.
  • 5 सेमी या उससे अधिक गहराई पर मिट्टी में बीज आलू को लगाएं.
  • पतंगों की उपस्थिति पर नज़र रखें और रोशनी या फ़ेरोमोन के जालों की मदद से पतंगों को बड़ी संख्या में पकड़ें.
  • खेत में और आसपास खर-पतवार और स्वतः उगने वाले पौधों को नियंत्रित करें.
  • मिट्टी के अत्यधिक सूख जाने से बचने के लिए खेत को नियमित रूप से पानी दें.
  • परिपक्व होने पर जल्द से जल्द फसल काट लें.
  • बेकार हुए कंदों के ढेर को दफ़ना दें या उन्हें नष्ट कर दें.
  • पौधे के मलबे और पलवार को खेतों से साफ़ कर दें.
  • भंडारण के बोरों और कमरों से कीटों को दूर रखें.
  • 7 और 10 डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान पर आलू स्टोर करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!