- केला

केला केला

केले पर ज़ंग पैदा करने वाला तैला

कीट

Chaetanaphothrips signipennis


संक्षेप में

  • वयस्कों और कीटडिंभों की बस्तियाँ पत्तियों, छद्यतनों और फलों पर पाई जाती हैं.
  • फलों पर जल से लथपथ क्षेत्रों के रूप में भोजन से क्षति नज़र आती है.
  • धब्बे ज़ंग जैसे खुरदुरे धब्बों में बदल जाते हैं, जो गहरे लाल रंग से गहरे भूरे रंग में बदल सकते हैं और पूरी त्वचा को ढाक सकते हैं.
  • विकसित फलों पर दरारें दिखती हैं या वे बीच से कट सकते हैं।.
 - केला

केला केला

लक्षण

संक्रमण किसी भी विकास के चरण में हो सकता है और पत्तियों, छद्यतनों और फलों पर दिखाई देता है। वयस्क और लार्वा आमतौर पर पत्तियों के आवरण के आधार के पीछे रहने लगते हैं। कीटडिंभ अत्यधिक भोजन करते हैं और अपने मुँह के हिस्सों से पौधे के रस को चूसकर खाते हैं। प्रारंभिक लक्षण फलों पर जल से लथपथ क्षेत्रों के रूप में दिखाई देते हैं। समय के साथ-साथ, ये क्षेत्र फल को एक ज़ंग जैसा रंग देते हैं, जो गहरे भूरे से लेकर लाल रंग का हो सकता है। आम तौर पर, केवल छिलके पर नुकसान दिखाई देता है। लेकिन यदि संक्रमण अत्यधिक हो, तो पूरा फल क्षति के लक्षण दिखा सकता है। परिपक्व फलों पर, दरारें दिखाई दे सकती हैं। कभी-कभी फल दो हिस्सों में विभाजित होकर खुल जाते हैं। शुरुआती विकास के चरणों में प्रभावित होने पर संक्रमण फलों के गुच्छों को सर्वाधिक हानि पहुँचाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण का कारण आमतौर पर चेटानाफ़ोथ्रिप्स साइनिपेनिस तैला होता है, लेकिन अन्य प्रजातियां भी शामिल हो सकती हैं (हिलियोनोथ्रिप्स केडालिफ़िलस)। कीट सबसे अधिक संक्रमित पौधों की सामग्री से फैलता है, या कुछ कम हद तक पेड़ों के बीच उड़ान भरने वाले कीड़ों द्वारा सीधे फैलता है। वयस्क पतले, भूरे से पीले रंग के, आकार में लगभग 1.3 मिमी के होते हैं। उनके अग्र पंख दो गाढ़े रंग के क्षेत्रों के साथ पतले और झालरदार होते हैं। मादा, पत्तियों के आवरण के नीचे और जहां फल पौधे को छूते हैं, छोटे अंडे (नग्न आंखों को दिखाई नहीं देता) देती है। लगभग 7 दिनों के बाद, पंखहीन, सफ़ेद से मलाई के रंग के लार्वा अंडों से निकलते हैं। लगभग 7 दिनों के भीतर वे वयस्कों के आकार जितना बढ़ जाते हैं। फिर वे ज़मीन पर जाकर, पौधे के आधार पर मिट्टी में प्रवेश करते हैं, और कोषस्थ धारण कर लेते हैं। अतिरिक्त 7-10 दिनों के बाद, वयस्क तैला की नई पीढ़ी निकल आती है। प्रति वर्ष कई पीढ़ियाँ पैदा हो सकती हैं। गर्म और आर्द्र मौसम के दौरान आबादी तेज़ी से बढ़ सकती है।

जैविक नियंत्रण

क्रायसोपिडे परिवार और लेडीबग भृंग प्रजातियों के परजीवी कीट इस कीट को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं। चींटियों की कुछ प्रजातियाँ भी प्रभावी हो सकती हैं। वे मिट्टी में उपस्थित कोषस्थों पर हमला करती हैं। यदि यह सुनिश्चित नहीं है कि पौधों की सामग्री स्वस्थ स्रोत से है, तो गर्म जल उपचार से संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। यदि कीटनाशकों की आवश्यकता हो, तो कोषस्थों को मारने के लिए मिट्टी पर और वयस्कों को मारने के लिए पौधों और फलों पर इसे लगाना चाहिए। पुनःसंक्रमण से बचाने के लिए यही एक दृष्टिकोण काम कर सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से स्वस्थ रोपण सामग्री का उपयोग करें.
  • मुख्य फसल क्षेत्र के आसपास स्वयं उगने वाले पौधों को निकालें और मेज़बान पौधों की खेती से बचें.
  • कीट के किसी भी लक्षण के लिए समय-समय पर अपने पौधों या खेतों की जांच करें.
  • पौधों की रक्षा के लिए पहले से ही प्रारंभिक विकास चरणों में गुच्छों के लिए खोल का उपयोग करें.
  • प्रभावित पौधों को निकालें और जलाकर नष्ट कर दें.
  • परित्यक्त वृक्षारोपण क्षेत्रों को हटा दें क्योंकि ये कीटनाशक के फैलाव का कार्य कर सकते हैं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!