- धान

धान धान

धान की बाली काटने वाली इल्ली

कीट

Mythimna separata


संक्षेप में

  • सूंडियां पत्तियों की नोकों, किनारों और कभी-कभी पूरी पत्तियां खा जाती हैं.
  • मंजरियां आधार से कटी हुई होती हैं.
  • धान के पौधों पर हरी घास के रंग के धारीदार पीठ वाले तरुण लार्वा नज़र आते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

पत्तियों की नोकों या किनारों का खाया जाना, कभी-कभी केवल मध्यशिरा का बचना (पत्ती का कंकाल बनना), प्रमुख लक्षण हैं। विकट प्रकोप होने पर, बड़े लार्वा पूरी पत्ती, और यहां तक कि पूरी पौध को आधार से काट सकता है। मंजरियों का आधार से कटा होना एम. सेपरैटा का विशेष गुण है और जो बच जाती हैं वे या तो मुड़कर लटक जाती हैं या फिर गिर जाती हैं। पौधों पर हरी घास के रंग के धारीदार पीठ वाले छोटे लार्वा नज़र आते हैं। क्षति आम तौर पर खेत के एक हिस्से तक ही सीमित रहती है। भयंकर प्रकोप होने पर एक ही समय में कई खेत प्रभावित हो सकते हैं क्योंकि लार्वा समूहों में उनमें आते-जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण धान की बाली खाने वाली सूंडी, माइथिम्ना सेपरैटा है। वयस्कों के धूसर पीले या लाल-पीली रंगत वाले अगले पंख होते हैं जिन पर कई काली छींटें होती हैं। मादाएं पत्तियों पर गोल, हरे सफ़ेद से सफ़ेद रंग के अंडे देती हैं, जो या तो खुले होते हैं या फिर काली-सी पतली परत से ढंके होते हैं। जल्द ही पौधों पर हरी घास के रंग के धारीदार पीठ वाले छोटे लार्वा दिखाई देने लगते हैं और वे क्षति पहुंचाना शुरू कर देते हैं। सूखे की अवधि के बाद भारी बारिश से वयस्क का जीवन काल, अंडे देने की अवधि, और अंडों से कीटडिंभ निकलने की अवधि बढ़ती है। नाइट्रोजन उर्वरकों से पौधे की वृद्धि में सुधार होता है, जिससे लार्वा को खाने और जीवित रहने का और अवसर मिलता है। अन्य धारक पौधौं में गेहूं, मक्का, जई, ज्वार, गन्ना, बांस, कपास, शकरकंद, तंबाकू और ब्रैसिका की प्रजातियों के साथ और भी शामिल हैं।

जैविक नियंत्रण

ततैया कोटेसिया रुफ़िक्रस और यूप्टेरोमेलस परनारे की कुछ हमलावर किस्मों को खेतों में छोड़ने पर अच्छी कामयाबी मिली है। ये एम. सैपेराटा के लार्वा में अंडे देती हैं, जिससे धीरे-धीरे वे मर जाते हैं। आबादी को प्यूपा अवस्था में डुबोकर मारने के लिए पानी का स्तर बढ़ाना भी कारगर खेतीबाड़ी तरीका है। खेत को पानी से लबालब भरने से एम. सेपरैटा का एक से दूसरे खेत में फैलाव भी घट जाता है। धान के खेतों में बत्तखें भी आबादी नियंत्रित करने में मददगार होती हैं।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। सूंडी को एक से दूसरे खेत में जाने से रोकने के लिए, प्रकोप वाले खेत की सीमाओं पर साइपरमेथ्रिन का छिड़काव करें। यदि प्रकोप बहुत भयंकर है, तो रासायनिक छिड़काव आवश्यक है। साइपरमेथ्रिन को 1 मिलीलीटर/1 लीटर पानी के हिसाब से छिड़काव की सलाह दी जाती है। शाम के समय छिड़काव करना सबसे अच्छा रहता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो ज़्यादा किल्ले फूटने वाली किस्में रोपित करें.
  • एम. सेपरैटा के लक्षणों और मौजूदगी के लिए खेत की नियमित निगरानी करें.
  • दिखाई देने पर अंडों के समूहों या लार्वा को हाथों से पकड़ें और नष्ट कर दें.
  • खरपतवारों (घास) पर नियंत्रण रखें क्योंकि ये भी मेज़बान की तरह काम करते हैं.
  • उर्वरकों का तर्कसंगत इस्तेमाल करें क्योंकि ये कीट को बढ़ावा देते हैं.
  • लार्वा को दूसरे खेतों में जाने से रोकने के लिए उसके मार्ग में गतिरोध बनाएं (जैसे गड्ढे खोदना).
  • गड्ढे खोदकर उन्हें पत्तियों या राख से ढक दें, ताकि इल्लियां वही रहें.
  • इल्लियों के अंदर रखने के लिए खेत के चारों ओर टहनियां रख दें.
  • लार्वा को डुबोने के लिए मेड़ों में पानी भर दें या उन्हें पौधों के ऊपरी हिस्सों पर जाने के लिए मजबूर करें जहां कीटनाशकों से उनका सफ़ाया किया जा सके.
  • गैर-संवेदनशील पौधों के साथ फ़सल चक्रीकरण करें, हालांकि गेहूं या मक्का के साथ चक्रीकरण न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!