- अन्य

अन्य अन्य

फलदार पेड़ों का पत्ती मोड़क

कीट

Archips argyrospila


संक्षेप में

  • तरुण लार्वा फूलों और कलियों में छेद करके अंदर के हिस्सों को नुकसान पहुंचाते हैं.
  • वयस्क पत्ती मोड़कर सिल्क जैसे धागों से बांधकर उसमें रहते हैं.
  • प्रभावित पत्तियां फटी-पुरानी दिखती हैं और गंभीर मामलों में पत्ती पात हो सकता है.
  • फलों में छिलके के पास उथले गड्ढे और कत्थई रंग के निशान दिख सकते हैं.
  • भयंकर प्रकोप होने पर पेड़ सिल्क जैसे धागे से पूरी तरह ढंक सकता है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

तरुण लार्वा शुरुआत में फूलों और कलियों को खाते हैं, इनमें छेद करते हुए अंदर के ऊतकों तक पहुँचते हैं। बाद की अवस्थाओं में कीट एक पत्ती के दोनों किनारों को रेशम जैसे धागे की मदद से घुमाकर रहने की जगह बना लेती हैं और यहां से पौधे के लगभग सभी हिस्सों पर हमला करती हैं। प्रभावित पत्तियां फटी-पुरानी दिखती हैं और गंभीर मामलों में पत्तीपात हो सकता है। फलों में छिलकों के पास उथले गड्ढे दिख सकते हैं। जो फल समय से पहले नहीं गिरते हैं, उन पर सख़्त, जाल-जैसी सतह वाले कत्थई रंग के निशान दिख सकते हैं। फलों में आम तौर पर विकृति हो जाती हैं जिससे वे बेचने लायक नहीं रहते। भयंकर प्रकोप होने पर पूरा पेड़ और उसके नीचे की ज़मीन रेशम जैसे धागे से ढंक सकती है। पेड़ के नीचे के पौधों पर भी हमला हो सकता है। ज़मीन पर गिरने वाले लार्वा उन्हें खाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण पतंगा आर्किप्स अर्गाएरोस्पिला के लार्वा हैं जिन्हें आम तौर पर फलदार पेड़ों का पत्ती मोड़क पतंगा कहते हैं। वयस्कों का शरीर भूरा व रोएंदार, 10 मिमी. लंबे अगले पंखों के साथ चौकोर दिखता है। रंग लाल भूरा, गहरा भूरा या तांबे जैसा होता है। पीछे के पंख पूरी तरह धूसर, जिनके बाहरी हिस्से भूरे और किनारे झालरदार होते हैं। नरों की तुलना में मादाएं आम तौर पर हल्के रंग की होती हैं। ये मेजबान पौधे की टहनियों पर समूहों में अंडे देती हैं और उन्हें सुरक्षात्मक परत से ढंक देती हैं। जहां तरुण लार्वा कलियों में छेद करते हैं, वहीं बाद की अवस्थाएं पत्तियों या फलों को रोल करके या बांधकर रहने की जगह बनाते हैं। यहां से वे बाहर निकलकर मेजबान की पत्तियां, फूल, कलियां या कभी-कभी फलों को खाते हैं। लार्वा सेब, नाशपाती, नींबू परिवार और गुठली वाले फलों समेत बड़ी संख्या में अन्य मेजबान पौधों पर हमला करता है। इनकी एक वर्ष में एक पीढ़ी होती है।

जैविक नियंत्रण

कई आम शिकारी जैसे लेसविंग, बीटल और लेडीबर्ड फलदार पेड़ों के पत्ती मोड़क के लार्वा खाते हैं। ट्राइकोग्रामा वंश की कीट-परजीवी ततैया पत्ती मोड़क पतंगा के अंडों पर अंडे देती है और वृद्धि करते समय छोटे लार्वा खाती है। ये कुदरती शत्रु आबादी कम रखने में मददगार हो सकते हैं पर कभी-कभी महामारी फैल सकती है। कम रेंज वाले तेल या बैसिलस थूरिंजिएंसिस या स्पाइनोसैड पर आधारित घोलों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। सक्रिय तत्व मेथॉक्सीफेनोजाइड, क्लोरपाइरिफॉस, मेथोमिल, क्लोरैनट्रैनिलिपरोल या स्पाइनटोरैम वाले उत्पाद आबादी कम करने में मददगार हो सकते हैं। इनमें से क्लोरैनट्रैनिलिपरोल या स्पाइनटोरैम मधुमक्खियों के लिए विषाक्त होते हैं। ध्यान रखें कि उचित उपचार फ़सल के प्रकार से तय होगा।

निवारक उपाय

  • कीट की मौजूदगी के लिए बाग की निगरानी करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!