- कपास

कपास कपास

गुलाबी इल्ली कीट (पिंक बॉलवर्म)

कीट

Pectinophora gossypiella


संक्षेप में

  • फूलों की कलियों में खाये जाने से होने वाली क्षति.
  • रेशम के धागे से पंखुड़ियाँ आपस मे बंध जातीं हैं.
  • कपास के गोलों में खाये जाने से बनने वाले छिद्र।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

गुलाबी इल्ली के कारण कलियों का न खुल पाना, बीजकोष का गिरना, रेशों को क्षति और बीज हानि होती है। गर्मी की शुरुआत में, लार्वा की पहली पीढ़ी कलियां खाती है जो वृद्धि करके फूल बन जाती हैं। संक्रमित फूलों की पंखुड़ियां लार्वा के सिल्क धागे से एक-दूसरे से बंधी हो सकती हैं। दूसरी पीढ़ी के लार्वा बीजों तक पहुंचने और उन्हें खाने के लिए बीजकोष और रेशों को खाते हुए आगे बढ़ते हैं। रेशा कट जाता है और उसमें दाग़ लग जाता है जिससे गंभीर गुणवत्ता हानि होती है। अंडप दीवारों (कार्पल दीवारों) के अंदर की तरफ गांठों के रूप में बीजकोषों पर क्षति स्पष्ट दिखती है। इसके अलावा, गुलाबी इल्ली के मामले में अक्सर लार्वा बीजकोष को खोखला नहीं करते और बाहर कीटमल छोड़ते हैं। मौकापरस्त जीव जैसे कि बीजकोष गलाने वाला कवक (बॉल रॉट) अक्सर लार्वा के प्रवेश और निकास छिद्रों से बीजकोषों को संक्रमित करता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कपास की कलियों और बीजकोषों को क्षति का कारण गुलाबी इल्ली पेक्टिनोफोरा गॉसिपिएला का लार्वा है। वयस्कों का रंग और आकार अलग-अलग होता है लेकिन आम तौर पर वे चित्तीदार धूसर से धूसर-भूरे होते हैं। वे दिखने में लंबे पतले और भूरे से होते हैं, अंडाकार पंख झालरदार होते हैं। मादाएं कलियों के सहपत्रों के अंदर की तरफ या हरे बीजकोषों की कर्णिका (कैलिक्स) के नीचे अकेले अंडे देती हैं। अंडों से आम तौर पर 4 से 5 दिन में लार्वा बाहर निकल आते हैं और तुरंत कलियों या बीजकोषों में घुस जाते हैं। तरुण लार्वा का सिर गहरा-भूरा और शरीर सफ़ेद होता है। पीठ पर गुलाबी आड़ी धारियां होती हैं। बढ़ने पर वे धीरे-धीरे गुलाबी दिखने लगते हैं। बीजकोषों को खोलकर देखने पर वे अंदर खाते हुए देखे जा सकते हैं। प्यूपा बनने से पहले लार्वा करीब 10 से 14 दिन खाता है। प्यूपा आम तौर पर बीजकोष के बजाय मिट्टी के अंदर बनता है। मध्यम से उच्च तापमान गुलाबी इल्ली के विकास को बढ़ावा देता है। हालांकि 37.5° सेल्सियस के ऊपर मृत्यु दर बढ़नी शुरू हो जाती है।

जैविक नियंत्रण

पेक्टिनोफोरा गॉसिपिएला से प्राप्त सेक्स फेरोमोन्स का संक्रमित खेत में छिड़काव जा सकता है। यह नर कीड़ों की मादा खोजने की क्षमता काफी हद तक कम कर देता है। समय पर स्पाइनोसैड या बैसिलस थुरिंजिएंसिस का छिड़काव भी प्रभावी है। बुआई के 45 दिनों के बाद या पुष्पीकरण के चरण में फेरोमोन ट्रैप (8प्रति एकड़) को स्थापित करें और फसल खत्म होने के समय तक जारी रखें। ट्रैप के चारे को 21 दिनों के अंतराल बदल दें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। गुलाबी इल्ली के पतंगों को मारने के लिए क्लोरपाइरिफास, एस्फेंवैलेरेट या इंडोक्साकार्ब के कीटनशाक फार्मूलेशन का पत्तियों पर छिड़काव किया जा सकता है। अन्य प्रभावी तत्वों में गामा-और लांब्डा-साइहैलोथ्रिन और बाइफेन्थरीन हैं। लार्वा के लिए कोई उपचार नहीं बताया जा रहा है क्योंकि वे आम तौर पर पौधे के ऊतकों के अंदर होते हैं। बुआई के 45 दिनों के बाद या पुष्पीकरण के चरण में फेरोमोन ट्रैप (8प्रति एकड़) को स्थापित करें और फसल खत्म होने के समय तक जारी रखें।

निवारक उपाय

  • कपास की जल्द परिवक्व होने वाली किस्में इस्तेमाल करें क्योंकि गुलाबी इल्ली का प्रकोप आम तौर पर सीजन में देर से होता है.
  • कीट के लक्षणों के लिए कपास के पौधों की नियमित निगरानी करें.
  • आबादी का अनुमान लगाने के लिए फेरोमोन ट्रैप का प्रयोग करें.
  • आबादी कम करने के लिए सर्दियों और बसंत में सिंचाई की उचित योजना बनाएं.
  • उदाहरण के लिए खेत में पानी भर (फ्लडिंग) सकते हैं.
  • कीटनाशकों का सावधानीपूर्वक इस्तेमाल करें ताकि शिकारी प्रभावित न हों और प्रतिरोध का विकास होने से बचा जा सके.
  • गर्मियों में खेत को खाली छोड़ दें.
  • फसल चक्र बदलकर (उदाहरण के लिए खाद्यान्न या अल्फ़ाल्फा) खेत को करीब 7 महीने कपास मुक्त रखें.
  • कीट की अधिक आबादी से बचने के लिए जल्द फ़सल काट लें.
  • कटाई के तुरंत बाद पौधों के अवशेषों को नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!