- कपास

कपास कपास

कपास की पत्ती का फुदका

कीट

Amrasca biguttula


संक्षेप में

  • पत्तियों का पीला पड़ना और ऊपर की ओर मुड़ना, बाद के चरणों में पत्तियों का किनारों से आरंभ होते हुए कत्थई रंग से बदरंग होना.
  • अवरुद्ध विकास।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

प्रभावित पत्तियां पीली पड़ जाती हैं, फिर किनारों से शुरू होकर मध्यशिरा की ओर जाते हुए भूरी पड़ती जाती हैं। पत्तियां पूरी तरह सूखने या गिरने से पहले धीरे-धीरे मुड़ने लगती हैं। गंभीर प्रकोप होने पर “हॉपर बर्न” घाव (कीट के कारण झुलसन) होता है और पत्तियों की मृत्यु हो जाती है, जिसके कारण तरुण पौधे पूरी तरह विकसित नहीं हो पाते हैं। वृद्धि की बाद की अवस्था में संक्रमित पौधे की फलन क्षमता पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और अधिकतर मामलों में उपज कम और रेशों की गुणवत्ता ख़राब होती है। पत्तियों में परिगलन से पहले, पत्तियों की निचली तरफ़ अधिक ट्राइकोम सघनता और ऊतकों का कठोर होना दिख सकता है। ये लक्षण कीटों से काफ़ी हद तक सुरक्षा प्रदान करते हैं क्योंकि इनके कारण अंडे देना या कीटों की गतिशीलता कठिन हो जाती है। लेकिन, इसका पौधों की उपज पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

अमरास्का डेवास्टेंस के नवजात और वयस्क नुकसान का कारण होते हैं। ये पौधे का रस चूसते हैं, और लारदार विषाक्त पदार्थ छोड़ते हैं, जो ऊतकों को क्षति पहुंचाने और प्रकाश संश्लेषण बाधित करने में समर्थ होते हैं। (21 से 31° सेल्सियस) तथा 55 से 85% की क्रमशः मध्यम से उच्च तापमान और नमी की मात्रा इस कीट की उपस्थिति और कार्यकलापों को बढ़ावा देते हैं। कम तापमान और तेज़ हवाएं कीट को नुकसान पहुंचाते हैं।

जैविक नियंत्रण

कपास के फुदका के आम शिकारियों में सामान्य ग्रीन लेसविंग (क्राइसोपर्ला कार्निया), ओरियस या जियोकोरिस वंश की कुछ प्रजातियाँ, कॉकिनेलिड्स और मकड़ियों की कुछ प्रजातियाँ शामिल हैं। इन प्रजातियों को बढ़ावा दें और व्पापक प्रभाव वाले कीटनाशकों के अत्याधिक इस्तेमाल से बचें। पहले लक्षण दिखने पर, स्पिनोसैड (0.35 मिलीलीटर प्रति लीटर) लगाएं।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। मैलाथियोन, सायपरमेथ्रिन (1 मिलीलीटर प्रति लीटर), सल्फ़ोक्साफ़्लोर, क्लोरपायरिफ़ोस (2.5 मिलीलीटर प्रति लीटर), डाईमैथोएट, लाम्ब्डासायहेलोथ्रिन (1 मिलीलीटर प्रति लीटर) या क्लोरेनट्रेनिलिप्रोल के साथ लाम्ब्डासायहेलोथ्रिन (0.5 मिलीलीटर प्रति लीटर) पर आधारित कीटनाशकों का प्रयोग किया जा सकता है। परंतु, ये फुदका के प्राकृतिक शिकारियों को भी प्रभावित कर सकते हैं, और इसलिए इनका केवल गंभीर मामलों में समयबद्ध तरीके से इस्तेमाल किया जाना चाहिए। कीटनाशकों से बीज उपचार करने से फसल पर फुदका की आबादी 45 से 50 दिन के लिए नियंत्रित की जा सकती है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी या सहनशील किस्में लगाएं (बाज़ार में कई उपलब्ध हैं).
  • कपास की पत्ती के फुदका की मौजूदगी के लिए खेत की नियमित निगरानी करें.
  • संतुलित मात्रा में उर्वरक दें और विशेष तौर पर अत्यधिक नाइट्रोजन का इस्तेमाल कतई न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!