- अन्य

अन्य अन्य

मक्के का चितकबरा भौंरा

कीट

Astylus atromaculatus


संक्षेप में

  • फूलों तथा मक्के की गुल्लियों पर पीले, काले धब्बों वाले लंबाकार कीटों के झुण्ड.
  • रेशम तथा दानों को क्षति.
  • बीजों या मक्के की अंकुरित हो रही पौध को क्षति तथा पौधे के आधार का कमज़ोर होना।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

फूलों तथा मक्के की गुल्लियों पर पीले, काले धब्बों वाले लंबाकार कीटों के झुण्ड। बीजों या मक्के की अंकुरित हो रही पौध को क्षति तथा पौधे के आधार का कमज़ोर होना। इस कीट को आम तौर पर एक कुशल परागणकारी माना जाता है क्योंकि इसकी उड़ान कभी-कभी ही 200 मी. या अधिक हो सकती है। परिस्थितियाँ (गर्म, सूखा मौसम तथा 15 डिग्री से. से अधिक तापमान) अनुकूल होने पर ही यह कीट फसलों को नुकसान पहुँचाता है। इन परिस्थितियों में भी ये आम तौर पर इतनी क्षति नहीं पहुंचाते कि इन पर कीटनाशकों से नियंत्रण करना आवश्यक लगे।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण मक्के का चितकबरा भौंरा, एस्टाइलस एट्रोमेक्यूलेटस है। वयस्क कीट लंबे, काले धब्बों और पंखों पर पीले आवरण वाले होते हैं। ये प्रायः शाकाहारी होते हैं और मक्का, धान, ज्वार या सूरजमुखी जैसी फसलों से रेशम, पराग या दाने खाते हैं। ये आम तौर पर इन पौधों को अधिक क्षति नहीं पहुंचाते। जब खेत में बहुत कम फसलें होती हैं तब भौंरे बड़ी संख्या में घास में जमा हो जाते हैं। अगर मवेशी इन्हें निगल लें तो बड़ी समस्या खड़ी हो सकती है, उनकी मृत्यु की भी संभावना रहती है। मादाएं सूखी पत्तियों के नीचे अंडे देतीं हैं। लार्वा ज़मीन पर रहते हैं और सड़ते हुए पौधों के अवशेष खाते हैं। ये कभी-कभी बीजों या मक्के के अंकुरित हो रही पौध को भी क्षति पहुंचाते हैं जिस कारण पौधे का आधार कमज़ोर हो जाता है। गर्म, सूखा मौसम (15 डिग्री सेल्सियस से अधिक) इनके जीवन-चक्र को बढ़ावा देता है।

जैविक नियंत्रण

ज्ञात शिकारियों (खाद्यान्न तना छेदक) के साथ आवास प्रबंधन तथा पौधों की पुश-पुल प्रणाली (बीच-बीच में डेस्मोडियम और मेड़ों पर नेपियर घास लगाना ) के इस्तेमाल से कभी-कभी हमला करने वाले इस कीट को फसलों को नुकसान पहुंचाने से रोकने में अब तक कामयाबी मिलती रही है।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को हमेशा एक समेकित तरीके से अपनाएं। एस्टाइलस भौंरे पर नियंत्रण के लिए आजकल रसायनों से बीजोपचार तथा रसायन छिड़काव की सलाह दी जाती है।

निवारक उपाय

  • बार-बार एक ही फसल न लगाएं क्योंकि इससे कीट के विकास को बढ़ावा मिलता है.
  • आबादी कम करने के लिए पानी से भरी हुई पीली बाल्टियों या 2-फिनाइल एथेनॉल के चारे वाले ट्रैप का इस्तेमाल करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!