- सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

सोयाबीन तना सुरंगक (स्टेम माइनर)

कीट

Melanagromyza sojae


संक्षेप में

  • मुलायम, लाल-भूरे रंग के सड़ते हुए तना ऊतक.
  • अंड निक्षेपण और खाए जाने से बने सूक्ष्म छेद.
  • अवरुद्ध वृद्धि.
  • छोटी काली मक्खियों की मौजूदगी।.
 - सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

लक्षण

क्षति की विशेषता सड़ते हुए तना ऊतक हैं। ये मुलायम और रंग में लाल-भूरे होते हैं। अंड-निक्षेपण और भक्षण के कारण पत्ती पटल के आधार पर सूक्ष्म छिद्र एकमात्र बाहरी लक्षण होते हैं। 5-8 सेंमी. ऊंचाई के पौधे हमले का शिकार हो सकते हैं। तने की मोटाई और पौधे की ऊंचाई घट सकती है (बौनापन)। जब प्रकोप विकास चरण में होता है, तो फलियों की संख्या घट जाती है, जिससे फल हानि होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण मुख्य रूप से सोयाबीन तना सुरंगक, मेलानाग्रोमाइज़ा सोजे के लार्वा के कारण होते हैं। वयस्क छोटी काली मक्खियों के रूप में दिखाई देते हैं। मादा तना सुरंगक मिट्टी में पौधों के पास अंडे देती है। जब लार्वा अंडे से बाहर आता है, तो तने में छेद करके घुस जाता है और ऊपर या नीचे जड़ों तक भक्षण करता है। इस गमन के कारण पौधे का शीर्ष मुरझा सकता है। बाद की अवस्था में, पूर्ण आकार का लार्वा तने में मौजूद रहता है और छेद को कूड़ा-कर्कट से भर देता है और अपने बनाए छेद के पास ही प्यूपा में बदल जाता है। तने को काटकर देखने पर, भक्षण सुरंगें दिखाई देती हैं। ऐसा देखा गया है कि दूसरी और तीसरी पीढ़ियां ज़्यादा नुकसान पहुंचाती हैं। एम. सोजे शायद ही कभी पौधों को मारता है, लेकिन उपज हानि के रूप में आर्थिक नुकसान पहुंचा सकता है। प्रकोप जितना बाद में होता है, उपज हानि उतनी ही कम होती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, एम. सोजे से पहले, ओफ़ियोमाइया फ़ेज़ियोली गंभीर नुकसान पहुंचाता है, जिसका अर्थ है कि क्षति को 100% एम. सोजे के साथ नहीं जोड़ा जा सकता है। सोयाबीन तना सुरंगक विभिन्न पर्यावरणीय-जलवायु क्षेत्रों में पाया जाता है और दलहनों/दालों की कई प्रजातियों पर हमला करता है।

जैविक नियंत्रण

एम. सोजे के बड़ी संख्या में शिकारी और अन्य प्राकृतिक शत्रु हैं जो अक्सर इसका फैलाव रोकने के लिए पर्याप्त हैं। कीट-परजीवी ततैया जैसे साइनिपोइडिया प्रजाति, स्फ़ेगिगास्टर प्रजाति, यूरिटोमा मेलैनाग्रोमाइज़े, सिन्टोमोपस कैरिनेटस और एन्यूरोप्रिया कैराली इस पर नियंत्रण रखती हैं। स्फ़ेगिगास्टर प्रजाति 3% तक और ई. मेलैनाग्रोमाइज़े प्रजाति 20% तक कीट पर नियंत्रण कर सकती हैं। साइनिपोइडिया प्रजाति और ई. मेलैनाग्रोमाइज़े प्रजाति को समेकित कीट प्रबंधन तरीके के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। लैंब्डा-सायहैलोथ्रिन 4.9% सी एस, थियामेथॉक्सैम 12.6% ज़ेड सी और लैंब्डा-सायहैलोथ्रिन 9.5% ज़ेड सी या इंडोक्साकार्ब 15.8% ईसी में से किसी एक का पत्तियों पर छिड़काव बुवाई के समय मिट्टी उपचार या अंकुरण के तुरंत बाद पत्ती छिड़काव के रूप में करना महत्वपूर्ण है।

निवारक उपाय

  • सहनशील किस्मों का इस्तेमाल करें, जैसे कि तमिलनाडू में सीओ-1 या मध्य प्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र में एनआरसी 7, एनआरसी 37.
  • अपने खेतों की नियमित रूप से निगरानी करें, विशेष रूप से एम. सोजे के छोटे और काले वयस्कों की मौजूदगी पर नज़र रखें.
  • तनों पर भक्षण से बनी सुरंगों की जांच-पड़ताल करें.
  • फसल चक्रीकरण की अनुशंसा की जाती है.
  • फसल कटाई के बाद मिट्टी को अगले मौसम के लिए पर्याप्त रूप से तैयार करें और रोपण करने में देरी से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!