- कपास

कपास कपास

काँटेदार बीजकोष कीट

कीट

Earias insulana


संक्षेप में

  • फूल आने से पहले मुख्य ऊपरी टहनियों का कुम्हलाना.
  • कपास कलियों और कोषों का झड़ना.
  • कोषों में छेद और अंदर सड़न.
  • कपास के कोष धीरे-धीरे खाली हो सकते हैं।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

लार्वा मुख्य रूप से कोषों पर हमला करते हैं, लेकिन कलियों, टहनियों और फूलों का भी भक्षण कर सकते हैं। यदि वनस्पति अवस्था के दौरान संक्रमण होता है, तो इल्लियां नई टहनियों की मुख्य कलियों को खोद देती हैं और नीचे की ओर बढ़ती हैं। इस कारण से फूल आने से पहले मुख्य टहनियां सूखने और झड़ने लगती हैं। यदि मुख्य तना प्रभावित होता है, तो पूरा पौधा गिर सकता है। बाद के चरण में हमला होने पर, लार्वा कलियों और बीजकोषों के आधार पर छेद खोदकर अंदर भक्षण करना शुरू कर देता है। सुरंग का प्रवेश मार्ग अक्सर कीटमल से बंद होता है। क्षतिग्रस्त फूलों की कलियाँ कभी-कभी समय से पहले फैल जाती हैं और तथाकथित "फ़्लैयर्ड" (फैली हुई) कलियां देखी जा सकती हैं। पौधों के ऊतक क्षतिग्रस्त होने से कवक या जीवाणु जनित संक्रमण हो सकता है। छोटे पौधों को धब्बेदार कोष कीट अधिक नुकसान पहुंचा सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

नुकसान कांटेदार बीजकोष (स्पाइनी बॉलवर्म) वाली इल्ली, ईयरिस इंसुलाना के कारण होता है, जो भारत के दक्षिणी क्षेत्रों में आम कीट है। इसके वैकल्पिक धारकों में गुड़हल और भिंडी के अलावा अन्य पौधे शामिल हैं। पतंगे अधिकतर चांदी-हरे से लेकर पीले रंग के, लगभग 2 सेंटीमीटर लंबे होते हैं, और फूलों पर या प्रकाश स्रोतों के करीब पाए जा सकते हैं। पंखों पर तीन गहरे रंग की धारियां दिखती हैं। गर्मियों के दौरान हरे रंग के कीट आम होते हैं और शरद के दौरान भूरे जैसे रंग वाले दिखते हैं। अंडे नीले रंग के होते हैं और युवा टहनियों, पत्तियों और कलियों पर एक-एक करके बिछे होते हैं। युवा लार्वा धूसर से पीले और नांरगी रंग की विशेषताओं के साथ हल्के भूरे रंग के होते हैं। उनके पूरे शरीर पर उपस्थित छोटे-छोटे कांटें, जो हाथ के लेंस के माध्यम से नज़र आते हैं, उन्हें अन्य इल्लियों से अलग करते हैं। जैसे-जैसे वे परिपक्वता तक पहुँचते हैं, वे पत्तियों से या पौधे के गिरे हुए हिस्सों से जुड़े रेशमी सुरक्षा कवच में प्यूपीकरण करते हैं। उष्णकटिबंधीय परिस्थितियों में, एक पीढ़ी 20-25 दिनों के भीतर पूरी हो जाती है। कम तापमान के कारण इस प्रक्रिया में दो महीने का समय लग सकता है।

जैविक नियंत्रण

इस कीट के प्रबंधन में अंडे या छोटी इल्लियों की तलाश महत्वपूर्ण है। ब्राकोनिड, स्केलिओनिड और ट्राइकोग्रामाटिड परिवार के कुछ परजीवी कीट जैविक नियंत्रक विधि के रूप में उपयोग किए जा सकते हैं। निम्नलिखित क्रम में शिकारी कीटों को भी आज़माएँ: कोलोप्टेरा, हाइमनोप्टेरा, हेमिप्टेरा और न्यूरोप्टेरा। इन प्रजातियों को बढ़ावा देना सुनिश्चित करें (या उन्हें खेत में डालें), और व्यापक असर वाले कीटनाशकों के उपयोग से बचें। अति आबादी को नियंत्रित करने के लिए बेसिलस थुरिंजियेंसिस युक्त जैविक कीटनाशकों का छिड़काव किया जा सकता है। 5 मिली/लीटर के हिसाब से नीम तेल (1500 मिलीग्राम प्रति लीटर) या 5% नीम की गुठली के अर्क (NSKE) का भी उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। उपचार की सलाह तब दी जाती है जब शुरुआती फूल खिलने के दौरान प्रति 100 पौधों में 10 अंडे या 5 छोटे कीड़े मौजूद होते हैं। क्योंकि इल्लियां कीटनाशक उपचार के प्रति तेज़ी से सहनशील होती जा रही हैं, अंडे और युवा इल्लियों की तलाश महत्वपूर्ण है। अंडे के चरण के दौरान उपचार करने की अनुशंसा की जाती है। क्लोरेंट्रानिलिप्रोले, इमामेक्टिन बेंज़ेएट,फ़्लुबेंडियामाइड, मेथोमाइल या एस्फ़ेनवेलरेट वाले कीटनाशकों को डाला जा सकता है। कम मूल्य की फसलों में रासायनिक उपचार व्यवहार्य नहीं होता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो पौधों की प्रतिरोधक किस्मों की रोपाई करें.
  • एकल कृषि से बचें और लाभकारी पौधों के साथ अंतर-फसल का इस्तेमाल करें.
  • अति आबादी से बचने के लिए जल्दी रोपण सुनिश्चित करें.
  • जीवन चक्र को तोड़ने के लिए बिना जुताई वाला सीमांत क्षेत्र रखें या गुड़हल और भिंडी जैसी जाल फ़सल का रोपण करें.
  • पौधों के बीच पर्याप्त दूरी छोड़ें.
  • लार्वा और धब्बेदार बीजकोष वाले कीट के अंडों के लिए नियमित रूप से कपास के खेत की निगरानी करें.
  • पर्याप्त उर्वरण करें.
  • जल्दी कटाई को बढ़ावा दें.
  • प्रत्येक फसल चक्र के बाद सभी फसल अवशेषों को साफ़ करें.
  • शिकारियों और अन्य कारकों के लिए प्यूपा को उजागर करने हेतु गहराई से हल चलाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!