- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने का पाइरिला रोग

कीट

Pyrilla perpusilla


संक्षेप में

  • पत्तियों की निचली सतह पर हरे से लेकर भूरे रंग के कीट भक्षण करते हैं.
  • पत्तियों का पीला पड़ना और सूखना, अल्पविकसित पौधे.
  • मधुरस (हनीड्यू) का उत्पादन और पत्ती की सतह पर काली फफूंद की वृद्धि.
  • मक्का के अलावा ये अन्य घासों और खाद्यान्नों पर भी हमला करते हैं।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

कीट पत्तियों की निचली सतह पर पाया जाता है, जहां ये पौधे का रस चूसते हैं। इनके कारण पहले पत्तियां पीली पड़ जाती हैं और बाद में सूख जाती हैं। कम प्रकोप होने पर, पत्ती की सतह पर पीले चकत्ते नज़र आते हैं। प्रकाश संश्लेषण घट जाता है, जिससे पौधे की वृद्धि अवरुद्ध हो जाती है। ये फुदके मधुरस (हनीड्यू) कहलाने वाले एक मीठे पदार्थ का भी स्राव करते हैं. जो पत्तियों को ढक देता है। यह मौकापरस्त फफूंद को आकर्षित करता है, जिसकी वृद्धि पत्ती फलक को काला कर देती है। इससे प्रकाश संश्लेषण और कम हो जाता है, जिससे उपज हानि होती है। मक्का के अलावा ये गन्ना, बाजरा, चावल, जौ, जई, ज्वार और जंगली घासों पर भी हमला करते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण पाइरिला पर्पुसिला के वयस्क होते हैं। ये बहुत सक्रिय फुदका कीट हैं, जो वर्ष भर प्रजनन करते हैं और एक से दूसरे खेत में पलायन करके बड़ी क्षति पहुंचा सकते हैं। वयस्क हल्के हरे से लेकर भूसे के रंग के और करीब 7-8 मिमी. लंबे होते हैं। ये आम तौर पर पौधों को बुरी तरह खाते पाए जाते हैं और छेड़ने पर तुरंत फुदक जाते हैं। इनकी नुकीली थूथन मुंह के वे हिस्से छिपा लेती हैं जिनकी मदद से ये पौधों के अंगों में छेद करके उनका रस चूसते हैं। ज़्यादा नमी और तेज़ पौधा वृद्धि कीट के फैलाव को बढ़ावा देती है, उदाहरण के लिए अत्यधिक खाद और उर्वरक आपूर्ति वाले खेत। अत्यधिक सिंचाई या बारिश का मौसम भी इसके प्रसार में योगदान देते हैं।

जैविक नियंत्रण

कई कीट-परजीवी अंडों और डिंभों पर हमला करते हैं। अंडा-परजीवियों में टेट्रास्टिकस पाइरिली, कीलोन्यूरस पाइरिली, ऊंसिर्टस पाइरिली, ओ. पिपिलियोनस और एगोनियास्पिस पाइरिली शामिल हैं। लेस्टोड्राइनस पाइरिली, पाइरिलोक्सेनोस ओमपैक्टस, क्लोरोड्राइनस पैलिडस, एपिरिकैनिया मेलैनोल्यूका डिंभ पर हमला करते हैं। इस कीट के शिकारियों में लेडीबर्ड की कई प्रजातियां, जैसे कि कॉक्सिनेला सेप्टेम्पंक्टाटा, सी. अंडेसिम्पंक्टाटा, काइलोमेनेस सेक्समैकुलाटा, ब्रमस सुचुरैलिस, भी शामिल हैं। अंडे के शिकारियों में निंबोआ बैसिपंक्टाटा, गोनियोप्टेरिक्स पुसाना शामिल हैं।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। मैलाथियॉन युक्त उत्पाद इस कीट के विरुद्ध प्रभावी होते हैं।

निवारक उपाय

  • कीट के लक्षणों के लिए खेत की लगातार निगरानी करें.
  • फसल कटाई के बाद संक्रमित पौधों को हटा दें और जला कर नष्ट कर दें.
  • बहुपयोगी कीटनाशकों का इस्तेमाल न करें क्योंकि इससे लाभदायक कीटों पर बुरा असर पड़ सकता है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!