- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

नींबू वंश की काली मक्खी

कीट

Aleurocanthus woglumi


संक्षेप में

  • पत्तियों और तनों पर स्राव.
  • कालिख जैसी दिखावट.
  • पत्ती की निचली सतह पर छोटे-छोटे काले झुंड।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

प्रकोपित पत्तियां विकृत और मुड़ी हुई दिख सकती हैं, जो अंत में असमय गिर जाती हैं। पत्तियों और तनों पर चिपचिपा स्राव जमा हो जाता है, जिसमें काली फफूंदी लग जाती है और जिससे पत्तियां काली सी दिखने लगती हैं। चींटियां स्राव की ओर आकर्षित हो सकती हैं। कीटों को पत्तियों की निचली सतह पर बहुत छोटे, काले कांटों जैसे समूहों में सबसे ज़्यादा देखा जाता है। कीट के भक्षण से हुई क्षति और काली फफूंद बढ़ने के कारण पेड़ कमज़ोर पड़ जाते हैं और उन पर कम फल लगते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

नींबू वंश की काली मक्खी या सिट्रस ब्लैकफ़्लाई (एल्यूरोकैंथस वोग्लुमि) एशियाई उत्पत्ति वाला नींबू वंश का एक ख़तरनाक कीट है और यह कई मेज़बान पौधों पर हमला करता है। यह सफ़ेद मक्खी परिवार का सदस्य है, लेकिन वयस्क धूसर नीले रंग का दिखता है, जिसके कारण इसे काली मक्खी नाम दिया गया है। वयस्क बेहद सुस्त और सूक्ष्म कीट है, जिसकी उड़ान का विस्तार सीमित है। हालांकि यह शाम में बहुत सक्रिय रहता है और दिन में पत्ती की निचली सतह पर आराम करता है। मादाएं लगभग 100 सुनहरे अंडे घुमावदार पैटर्न में पत्तियों की निचली सतह पर देती हैं। इनके कीटडिंभ चपटे, आकृति में अंडाकार और दिखने में शल्क जैसे होते हैं। काली मक्खी अपनी तेज़ नुकीली शूकिका (स्टाइलेट) से पत्तियों की कोशिकाओं का रस चूस लेती है। साथ-साथ, बड़ी मात्रा में मधुरस (हनीड्यू) का स्राव करती है। इसके विकास के लिए आदर्श परिस्थितियां लगभग 28-32 डिग्री सेल्सियस तापमान और 70-80% सापेक्षिक आर्द्रता है। काली मक्खी पाला पड़ने वाले ठंडे स्थानों पर जीवित नहीं रह पाती है।

जैविक नियंत्रण

एन्कार्सिया परप्लेक्सा, पोलाज़ेक और एमिटस हेस्पेरिडम सिल्वेस्ट्री की पहचान नींबू वंश की काली मक्खी की परजीवी ततैया के रूप में की गई है। ये ततैया केवल नींबू वंश की काली मक्खी और उनकी करीबी सफ़ेद मक्खियों का परजीवी होता है और मनुष्यों और पौधों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है। कीट, जैसे कि लेडीबर्ड, लेसविंग, ब्रमस प्रजाति, स्कायम्नस प्रजाति और क्लाइसोपर्ला प्रजाति अन्य प्राकृतिक शत्रु हैं। तेल, जैसे कि कपास का तेल, और मछली के तेल और राल का साबुन (फ़िश ऑयल रोज़िन सोप या FORS) प्रभावी और पर्यावरण मित्र होते हैं। ये न केवल काली मक्खी की आबादी कम करते हैं, बल्कि पत्तियों पर कालिख जैसी फफूंद भी घटाते हैं। कीट की आबादी कम करने के लिए नीम की निबौरियों के अर्क का स्प्रे (4%) करें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। ए. वोग्लुमि के प्राकृतिक दुश्मनों को संरक्षित करने के लिए बहुपयोगी कीटनाशकों का इस्तेमाल करने से बचें। रोपण सामग्री पर धूआं छोड़ने या रसायनिक स्प्रे करके इस कीट पर नियंत्रण किया जा सकता है। कीट निवारक कीटनाशक तब स्प्रे करें जब 50% से ज़्यादा अंडों से लार्वा बाहर निकल आएं और उनके शरीर पर त्वचा की बाहरी परत की सुरक्षा न हो। क्विनालफ़ोस और ट्राईज़ोफ़ोस नींबू वंश की काली मक्खी की आबादी कम करने में प्रभावी पाए गए हैं। छिड़काव पत्ती की निचली सतह पर किया जाना चाहिए क्योंकि कीट यहीं पर फलता-फूलता है। पेड़ की संपूर्ण छत्र को घोल से तर कर देना चाहिए।

निवारक उपाय

  • अपने बगीचे के लिए कीट मुक्त पौधों का प्रयोग सुनिश्चित करें.
  • घनी रोपाई से बच कर अपने बगीचे में वायु संचार के लिए अच्छी परिस्थितियां बनाएं.
  • उचित कांट-छांट और वैकल्पिक मेज़बान (खरपतवार और अन्य धारक फसलें) हटाने से काली मक्खी के लिए उपयुक्त प्राकृतिक आवास में कमी आती है.
  • कीट और पेड़ पर कालिख जैसे हिस्सों के लिए अपने पेड़ों की लगातार निगरानी करें.
  • अपने नींबू वंशीय पेड़ों को स्वस्थ रखने के लिए उन्हें पर्याप्त पानी दें और थोड़ी उर्वरक डालें लेकिन ज़्यादा पानी भरने या पौधों के लिए मुश्किल खड़ी कर देने वाली परिस्थितियां उत्पन्न करने से बचें.
  • अत्यधिक सिंचाई, नाइट्रोजन आपूर्ति और कीटनाशक स्प्रे से बचें.
  • आगामी वद्धि मौसम में कीट के हमले की संभावना से बचने के लिए संभावित शीत-शयन वाला कूड़ा-कर्कट हटा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!