- कपास

कपास कपास

मिरिड कीड़े

कीट

Miridae


संक्षेप में

  • मिरिड कीड़े सबसे ऊपरी मुख्य कलियों, फूलों और फलों का रस चूसते हैं.
  • फलों पर काले धब्बों की उपस्थिति और अंदर सिकुड़े और दाग़दार बीज पाए जाते हैं.
  • हमलाग्रस्त पौधे कमज़ोर हो जाते हैं और एक अवरुद्ध और बाधित विकास दिखाई देता है।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

मिरिड कीट पौधों की सबसे ऊपरी मुख्य कलियों, फूलों और फलों के रस को चूसकर नुकसान पहुंचाते हैं। यदि फलों के गुच्छे बनने से पहले हमला होता है, तो पौधे अपनी मुख्य कली को खो सकते हैं, जिसके कारण बौनी और शाखित बढ़त होती है। भक्षण से होने वाली हानि से नए फूल 3-4 दिनों के भीतर सूख जाते हैं और नष्ट हो सकते हैं। छोटे और मध्यम आकार के फूलों को विशेष तौर पर ऐसा नुकसान होता है जिसे ठीक नहीं किया जा सकता। यदि फूल पूरी तरह विकसित होते हैं, तो उनमें अक्सर झुर्रीदार और विकृत पंखुड़ियों के साथ-साथ काले परागकोष दिखते हैं। बीजकोष पर नुकसान पहुंचने के कारण बाहर की तरफ़ काले धब्बे पड़ जाते हैं और अंदर की तरफ़ सिकुड़े हुए व दागदार बीज निकलते हैं। गंभीर संक्रमण के मामले में उपज और गुणवत्ता गंभीर रूप से प्रभावित हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फसल पर निर्भर करते हुए मिरिड बग की कई प्रजातियां नुकसान पहुंचा सकती हैं। कपास में, यह प्रजाति कैंपिलोम्मा लिविडा है, जिसे डिम्पल बग (मध्य और उत्तरी भारत में) के नाम से भी जाना जाता है। साथ ही क्रियोनटिएड्स प्रजाति के कई सदस्य भी नुकसान पहुंचा सकते हैं, ख़ासतौर पर सी. बिसेरेटेंस (दक्षिणी भारत)। वयस्कों का सपाट शरीर हरे-पीले से भूरे रंग के साथ अंडाकार होता है। एक विशेष त्रिकोण पीठ के केंद्र को रेखांकित करता है। पत्तियों की डंठल पर एक-एक करके अंडे दिए जाते हैं, जो 4-5 दिनों के बाद फूटते हैं। आकार और प्रकार की वजह से युवा कीटडिंभ आसानी से माहू समझे जा सकते हैं। परंतु, मिरिड कीट माहू की तुलना में बहुत तेज़ चलते हैं। सी. लिविडा के लिए इच्छुक तापमान लगभग 30-32 ° सेल्सियस है। जब तापमान उस इष्टतम स्तर से हटता है, तो उनका जीवन चक्र धीमा हो जाता है। विशेष रूप से 35 डिग्री सेल्सियस से ऊपर गर्म तापमान और भारी वर्षा से कीट की आबादी में भारी कमी आ सकती है।

जैविक नियंत्रण

एक संक्रमित खेत में, मिरिड की आबादी को कम करने के लिए प्राकृतिक शिकारियों का उपयोग किया जा सकता है। डैम्सेल कीट, बड़ी आंखों वाले कीड़ों, असेसिन कीड़ों, चींटियों और मकड़ी की कुछ प्रजातियों को मिरिड बग के भक्षण के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, नीम के तेल को पानी में मिलाकर और कवक ब्यूवेरिया बेसियाना पर आधारित जैविक कीटनाशकों के साथ उपचार करके इनकी आबादी को सीमित किया जा सकता है। कीट का पता चलने के तुरंत बाद जैविक उपचार का उपयोग करना शुरू करें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। डाइमेथोएट, इंडोक्साकार्ब या फ़िप्रोनिल वाले कीटनाशक मिरिड बग के खिलाफ़ प्रभावी होते हैं और इनका उपयोग गंभीर संक्रमणों को रोकने के लिए किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • रोपण के समय कपास के पौधों के नज़दीक अंतराल से बचें.
  • अपनी फसलों से इन कीड़ों को आकर्षित होने से रोकने के लिए कपास के खेतों के चारों ओर अल्फ़ाल्फ़ा जैसे वैकल्पिक मेज़बान पौधों को लगाएं.
  • संक्रमण के लक्षणों के लिए अक्सर अपने पौधों की निगरानी करें.
  • कीटनाशक के उपयोग को नियंत्रित करें और लाभकारी कीटों को प्रभावित न करने के लिए व्यापक तौर पर कीटनाशकों का छिड़काव न करें.
  • कीटों के आगे फैलाव से बचने के लिए पौधों के अपशिष्ट और संक्रमित पौधों को हटा दें और जला दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!