- आम

आम आम

मैंगो मिज

कीट

Procontarinia


संक्षेप में

  • पत्तियों, कलियों, प्ररोहों और नए फलों पर छोटे, मस्से जैसे चकत्ते.
  • पत्तियों के नीचे और फलों के तनों पर निकास छिद्र दिखाई देते हैं.
  • विकृत पत्तियां, जो समय से पहले गिर सकती हैं।.
 - आम

आम आम

लक्षण

लक्षण मुख्य रूप से पत्तियों पर दिखाई देते हैं। कभी-कभी कलियों, पुष्पगुच्छ और आम के नए फलों पर भी दिखते हैं। इस कीट से संक्रमित हिस्से कई छोटे, उभरे हुए फोड़े या फफोलों से ढक जाते हैं। प्रत्येक मस्से जैसा फफोला या फोड़ा 3-4 मिमी का होता है और इसमें एक पीला लार्वा होता है जो पेड़ के ऊतरकों को खाता है। शुरुआती चरणों में, अंडे देने का स्थान एक छोटे से लाल धब्बे के रूप में दिखाई देता है। गंभीर रूप से प्रभावित पत्तियां विकृत हो सकती हैं, इनमें प्रकाश संश्लेषण कम होता है, और ये असमय गिर जाती हैं। संक्रमित पुष्पगुच्छ खुलने में असमर्थ हो सकते हैं। पत्तियों के नीचे की तरफ़ छोटे निकास छिद्र लार्वा की उपस्थिति के अवशेष हैं। इन निकास निशानों के कारण द्वितीयक फफूंद संक्रमण हो सकता है। नए फलों के तने के आधार पर भी निकास छिद्र दिखते हैं। गंभीर रूप से संक्रमित आम की टहनियों पर लगभग कोई बौर या पुष्पक्रम नहीं रहता, जिससे उपज काफ़ी घट सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण मिज, प्रोकॉन्टैरिनिया प्रजाति की विभिन्न प्रजातियां हैं। वयस्क मिज आकार में 1-2 मिमी होते हैं और सहवास और अंडे देने के बाद निकलने के 24 घंटे के भीतर मर जाते हैं। अंडे पेड़ के लगभग सभी हिस्सों पर दिए जाते हैं लेकिन ये मुख्य रूप से पत्तियों पर मिलते हैं। अंडों से बाहर निकलकर लार्वा पेड़ के विभिन्न हिस्सों में घुस जाते हैं और प्रभावित हिस्से पर निर्भर करते हुए क्षति पहुंचाते हैं। बौर के जिन हिस्सों को खाया जाता है, वे सूख जाते हैं और ज़्यादा खाए जाने के कारण धरती पर गिर जाते हैं। वयस्क लार्वा मिट्टी की ऊपरी परतों पर पलायन कर जाते हैं या गिर जाते हैं, जहां वे प्यूपा चरण में प्रवेश करते हैं। प्यूपा में से वयस्क अधिकतर दोपहर में बाहर निकलते हैं और ठंडा तापमान (20 डिग्री सेल्सियस) और 60-82% सापेक्षिक आर्द्रता में इस प्रक्रिया को बढ़ावा मिलता है। उत्तरी गोलार्द्ध में जनवरी से मार्च की अवधि तक 3-4 कीट पीढ़ियां हो सकती हैं।

जैविक नियंत्रण

फाल वेबवर्म, टेट्रास्टिकस प्रजाति प्रोकॉन्टैरिनिया प्रजाति के लार्वा के परजीवी हैं और इसलिए कीट पर नियंत्रण के लिए इनका इस्तेमाल किया जा सकता है। अन्य कीट-परीजीवी प्लैटिगैस्टर प्रजाति, एप्रोस्टोसीटस प्रजाति और सिस्टैसिस डैसीन्यूरी परिवार के हैं। पेड़ की छतरी पर नीम की गुठलियों का अर्क डालें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। कीटनाशकों का अत्यधिक इस्तेमाल प्रतिरोध पैदा करने के साथ-साथ प्राकृतिक शत्रुओं को मार सकता है। पुष्पगुच्छ की कलियां फूटने के दौरान 0.05% फ़ेनिट्रोथियॉन, 0.045% डाइमेथोएट का छिड़काव कीट पर नियंत्रण पाने में प्रभावी हो सकता है। बाइफ़ेंथ्रिन (70 मिली./100 ली.) को पानी में मिलाकर इस्तेमाल करने से भी संतोषजनक परिणाम मिले हैं। फूल आने के मौसम में छिड़काव का 7-10 दिन के अंतराल पर दोहराव तब तक करें जब तक कि फल मटर के आकार न हो जाएं। प्रोकॉन्टैरिनिया प्रजाति की आबादी कम करने के लिए डाइमेथोएट युक्त छिड़कावों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • पेड़ों की सहनशील या प्रतिरोधी किस्में लगाएं.
  • नियमित रूप से कीट संक्रमण के संकेतों के लिए खेतों की निगरानी करें.
  • कीट को हाथ से चुनकर हटाएं, विशेषकर यदि आबादी घनी नहीं है.
  • खेत को कूड़ा-कर्कट और टूटी शाखाओं से मुक्त बनाए रखना सुनिश्चित करें.
  • खेत और उसके आसपास से लगातार खरपतवार हटाएं.
  • मौसम के दौरान संक्रमित शाखाओं की छंटाई करें.
  • कीट आबादी स्तर कम करने के लिए अपने आम के बाग़ के साथ एक अन्य फ़सल (अंतर-फ़सल) लगाएं.
  • मक्खियों को पकड़ने के लिए पीले चिपचिपे जाल (येलो स्टिकी ट्रैप) का इस्तेमाल करें.
  • लार्वा को ज़मीन पर गिरने या प्यूपा को उनके घोंसले से बाहर निकलने से रोकने के लिए मिट्टी को प्लास्टिक की पन्नी से ढक दें.
  • मिट्टी की नियमित रूप से जुताई करके प्यूपा और लार्वा को धूप के संपर्क में लाएं ताकि वे मर जाएं.
  • मौसम के दौरान संक्रमित पेड़ सामग्री को एकत्र करें और जला दें.
  • संक्रमित पौधों या फलों को नए क्षेत्रों या बाज़ारों में न ले जाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!