- गन्ना

गन्ना गन्ना

पोर छेदक

कीट

Chilo sacchariphagus indicus


संक्षेप में

  • पत्तियों में छेद होना.
  • छोटे पोर.
  • तनों और डंठलों को अन्दर से खाना.
  • भूरे सिर, लम्बी धारियां और उपरी सतह पर धारियों वाला सफेद लार्वा।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

कैटरपिलर पहले मुड़ी हुई नई पत्तियों को खाकर उनमें छेद कर देते हैं। पौधों की वृद्धि के प्रारंभिक चरण में, वे उगते हुए हिस्सों को खाकर सिरों को मृत कर देते हैं। पोर घट जाते हैं और छेदों के साथ छोटे होते जाते हैं। तने में घुसते और अंदर खाते समय अपने मलमूत्र से छेद को बंद कर देते हैं। लार्वा तने के ऊतकों में ऊपर बढ़ता है, जिससे लाल रंग हो जाता है और गांठों को नुकसान पहुंचाता है। पौधे के डंठल कमजोर हो जाते हैं और आसानी से हवा से टूट जाते हैं। वृद्धि में कमी दूसरे लक्षणों में से एक है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

पौधे को नुकसान काईलो सैकैरीफैगस इंडिकस के लार्वा से होता है। वयस्क पतंगे सफेद पिछले पंख और अगले पंखों के किनारे पर गहरी रेखा के साथ छोटे, भूसे जैसे रंग के होते हैं। वे एक वर्ष में लगभग 5-6 पीढ़ियों को पूरा करके पूरे वर्ष सक्रिय रहते हैं। पौधे आमतौर पर प्रारंभिक अवस्था से फसल की कटाई तक प्रभावित होते हैं। लार्वा पौधे की गांठों तक छेद करते हैं, तने में घुस जाते हैं और ऊपर की ओर छेद करते हैं। गन्ने के आसपास जलभराव पोर छेदक को बढ़ाता है, यही नाइट्रोजन की उच्च मात्रा के साथ-साथ कम तापमान और उच्च आर्द्रता भी करते हैं। दूसरे मेजबान मक्का और ज्वार हैं।

जैविक नियंत्रण

इस कीट के लिए, कोई भी जैविक कीटनाशक ज्ञात नहीं है, लेकिन परजीव्याभ (पैरासिटोइड्स) पोर छेदक को कम कर देते हैं। ट्राइकोग्रामा ऑस्ट्रलियाकम @ 50,000 परजीवी/हक्टेयर/सप्ताह छोड़ें। अंडा परजीव्याभ ट्राइकोग्रामा चिलोनिस को @ 2.5 मिली/हेक्टेयर 4 महीने के बाद से15 दिन के अंतराल पर छोड़ें। लार्वा के परजीव्याभ स्टेनोब्राकॉन डीसा और एपैंटेलस फ्लेविप्स हैं। प्यूपा स्टेज के लिए, परजीव्याभ टेट्रास्टीचस अय्यारी और ट्राइकोस्पिलस डायटेरेसी को छोड़ सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो तो जैविक उपचार के साथ एकीकृत तरीकों पर हमेशा विचार करें। वृद्धि के मौसम के दौरान पाक्षिक रूप से मोनोक्रोटोफॉस, कीटनाशक का छिड़काव करें। अगर ज्यादा नुकसान हो तो कार्बोफ्यूरान 3G दानों को 30 किग्रा/हेक्टेयर की दर से मिट्टी में डालें।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक किस्मों जैसे सीओ 975, सी ओ जे 46 और सी ओ 7304 का उपयोग करें.
  • रोपण के लिए कीट-मुक्त सेट को चुनें.
  • फसल की नियमित तौर पर निगरानी करें.
  • समय-समय पर अंडों को एकत्र और नष्ट करें.
  • गन्ने के खेतों में और आसपास की खरपतवार को हटाने और नष्ट करने के साथ-साथ अपनी फसल की सावधानीपूर्वक देखभाल कर स्वच्छता प्रबंधन करें.
  • रोपण के 150 वें और 210 वें दिन के बाद अपने खेत से सूखे गन्ने के पत्तों को हटा दें.
  • निगरानी के लिए फेरोमोन ट्रैप @ 10 नग/हेक्टेयर लगाएँ और उन्हें 45 दिनों में एक बार बदलें.
  • ज्यादा कीटनाशकों का उपयोग न करके लाभकारी कीड़ों और प्राकृतिक शिकारियों को अच्छा वातावरण प्रदान करें.
  • कटाई के बाद, डंठलों हटा दें और नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!