- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने पर पपड़ी (सुगरकेन स्केल)

कीट

Melanaspis glomerata


संक्षेप में

  • पत्तियाँ और गन्ने सूख जाना.
  • पौधों का छोटा रह जाना.
  • तनों और पत्तियों की मध्यशिराओं पर गोल, गहरे रंग की पपड़ी होना।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

तनों और पत्ती की मध्यशिराओं पर गोल, भूरी या धूसर-काली पपड़ियां होती हैं। संक्रमित गन्नों की पत्तियों की नोक सूख कर अस्वस्थ हल्के हरे रंग की हो जाती हैं। आगे भी संक्रमित रहने पर पत्तियाँ पीली हो जाती हैं। रस की कमी के कारण पत्तियाँ नहीं खुलती हैं, जिसके कारण वे पीली होकर सूख जाती हैं। आखिरकार, गन्ना सूख जाता है और छाल को काटने पर भूरा-लाल दिखाई देता है। संक्रमित गन्ने सिकुड़ जाते हैं और गंभीर संक्रमण में पूरे गन्ने में तने पर कीट पपड़ी बनाते दिखते हैं। इसकी गतिहीन आदतों और छोटे आकार के कारण, कीट गन्ना उत्पादक की निगाह से बच जाता है। इसकी उपस्थिति केवल गंभीर नुकसान के बाद ही पता चलती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कीट की पपड़ी के कारण नुकसान होता है। मादा ओवोविवीपैरस होती हैं - जिसका अर्थ है कि बच्चे मादा के शरीर के अंदर अंडे से पैदा होते हैं। फूटने पर, ये रेंगने वाले कीट (छोटी अपरिपक्व स्केल) खाने की खोज पर निकलते हैं। वे अपने सुई जैसे मुँह के भाग को पौधे से जोड़ देते हैं, पौधे के रस को चूसते हैं और फिर वहाँ से नहीं हिलते। गांठ बनने के साथ संक्रमण शुरू हो जाता है और गन्ने के पौधे के बढ़ने के साथ-साथ बढ़ता रहता है। ये कीट पौधे का रस चूस लेते हैं। गंभीर संक्रमण में, पत्ती की खोल, सतह और मध्यशिरा भी संक्रमित हो जाती हैं।

जैविक नियंत्रण

1% मछली के तेल के राल साबुन के इमल्शन में रोपण सामग्री को भिगोएं। पत्तियों और डंठल पर सफेद तेल का छिड़काव करें, यह नवजात स्केल के विरुद्ध थोड़ा कारगर रहता है। चिलोकोरस निग्रिटस या फ़ैरास्काइमनस हॉर्नी एग कार्ड को 5CC/AC के दर से छोड़ दें। कीट स्केल को खाने वाले एनाब्रोटेपिस मयूरे, चिलोनेरस प्रजाति जैसे हाइमेनोप्टेरान परजीवी/पैरासाइटोइड और सैनिओसुलस नुडुस और टाइरोफ़ेगस पुट्रेसेंटी जैसे शिकारी घुनों का उपयोग करें।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों और एकीकृत तरीकों पर विचार करें। रोपण से पहले 0.1% मैलाथियॉन घोल में रोपण सामग्री भिगो दें। पत्तियों को काटने के बाद 2 मिली/ली की दर से डाइमेथोएट या 1.6 मिली/ली की दर से मोनोक्रोटोफ़ोस का छिड़काव करें। शुरुआत में कीट नज़र आने पर, पत्तियों को काटने के बाद 1 ग्राम/ली की दर से एसिफ़ेट 75 SP @ का दो बार रोपण सामग्री पर इस्तेमाल करें।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक किस्म जैसे कि CO 439, CO 443, CO 453, CO 671, CO 691 और CO 692 का उपयोग करें.
  • स्केल कीड़ों से मुक्त रोपण सामग्री की खेती करें.
  • बड़े पैमाने पर आबादी बढ़ने से रोकने के लिए साफ़ रोपण सामग्री का उपयोग करें.
  • खेतों और क्यारियों को घासफूस से मुक्त रखें.
  • जमा पानी को खेत से निकालें.
  • संक्रमण के लक्षणों के लिए नियमित रूप से अपने खेत की जाँच करें.
  • गंभीर रूप से संक्रमित गन्ने के पौधों को उखाड़कर जला दें.
  • गैर-मेज़बान फसल (जैसे गेहूँ) के साथ फसल-चक्रीकरण करें.
  • रोपण के 150वें और 210वें दिन पत्तियों को काटकर निकाल दें.
  • बार-बार रतून खेती से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!