- टमाटर

टमाटर टमाटर

मैग्नीशियम की कमी

कमी

Magnesium Deficiency


संक्षेप में

  • पत्तियों में किनारे से आरंभ होते हुए हल्के हरे धब्बे या पत्तियों का पीलापन.
  • पत्ती की मुख्य शिरा हरी रहती है.
  • पत्तियों की सतह पर बाद में लाल या भूरे धब्बे.
  • पत्तियों के शुष्क ऊतक मर जाते हैं।.
 - टमाटर

टमाटर टमाटर

लक्षण

मैग्नीशियम की कमी से ग्रस्त पौधों में आमतौर पर पुरानी पत्तियों की शिराओं के अंदर हल्के हरे रंग के धब्बे हो जाते हैं या हरित हीनता से ग्रस्त आकृतियाँ उभर आती हैं जो अक़्सर पत्तियों के किनारे से शुरू होता है। अनाज में, हल्की-सी कमी से ग्रस्त पत्तियों में एक हरी सीधी रेखा में मोती जैसी आकृतियाँ पैदा हो जाती हैं, जो बाद में शिराओं के भीतर हरित हीनता में विकसित हो जाती हैं। गंभीर मामलों में, हरित हीनता पत्ती के मध्य भाग तक पहुँच जाती है और छोटी शिराएं भी प्रभावित हो जाती हैं। पत्ती की सतह पर लाल या भूरे धब्बे दिखाई देने लगते हैं। बाद में, उच्च रूप से हरित हीनता से ग्रस्त ऊतकों में गले हुए हिस्से दिखाई देने लगते हैं, जिसके कारण पत्तियाँ खुरदरी और विकृत दिखाई देने लगती हैं। अंत में, पीला रंग पूरी पत्ती को अपनी चपेट में ले लेता है, जिसके कारण आखिर में समय से पूर्व मृत्यु होती हैं तथा पत्तियाँ शीघ्र गिरने लगती हैं। जड़ की वृद्धि अवरोधित हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप पौधे कमज़ोर पड़ जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कम पौषण एवं कम पानी बनाए रखने की क्षमता वाली हल्की, रेतीली या अम्लीय मिट्टी में मैग्नीशियम की कमी एक आम समस्या है। इन मिट्टियों में, पौषक तत्व आसानी से घुलकर बह जाते हैं। जब मिट्टी में पोटेशियम या अमोनियम की मात्रा भरपूर होती है या इन पोषक तत्वों का अत्यधिक प्रयोग किया जाता है, तो भी समस्या हो सकती है, क्योंकि वे मिट्टी में उपस्थित मैग्नीशियम के विरुद्ध काम करते हैं। मैग्नीशियम शर्करा के परिवहन में सहयोग करता है और यह पर्णहरित या क्लोरोफ़िल अणुओं का एक महत्वपूर्ण भाग होता है। मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा के बिना, पौधे पुरानी पत्तियों में मौजूद पर्णहरित को घटाने लगते हैं ताकि उसे विकसित हो रही नई पत्तियों तक पहुँचाया जा सके। इस कारण शिराओं के बीच हरित हीनता पैदा होती है। प्रकाश की तीव्रता लक्षणों के विकास को प्रभावित करती है। अधिक प्रकाश कमी के प्रभावों को अधिक गंभीर बना देता है।

जैविक नियंत्रण

ऐसे पदार्थों का प्रयोग करें जिनमें मैग्नीशियम हो, जैसे शैवाल युक्त चूना पत्थर (लाइमस्टोन), डोलोमाइट या लाइमस्टोन मैग्नीशियम। मिट्टी में पोषक तत्वों को संतुलित करने के लिए मवेशी खाद, जैविक पलवार या कम्पोस्ट का प्रयोग करें। इनमें जैविक पदार्थ और कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो धीरे-धीरे मिट्टी में प्रवेश करते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

- मैग्नीशियम से युक्त मिट्टी या पत्तों पर छिड़के जाने वाले उर्वरकों का प्रयोग करें। - उदाहरण : मैग्नीशियम ऑक्साइड, मैग्नीशियम सल्फेट - आपकी मिट्टी तथा फसल के लिए सर्वश्रेष्ठ उत्पाद और मात्रा को जानने के लिए अपने कृषि परामर्शदाता से सलाह लें। अन्य सलाहें - आपकी फसल को अधिकतम करने के लिए फसल के मौसम के आरंभ से पहले मिट्टी की जॉच कराने को सलह दी जाती है। - मैग्नीशियम का मिट्टी में सीधे तौर पर या पत्तियों पर छिड़काव के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • मिट्टी के पीएच की जांच करें और अगर अनुकूलतम सीमा प्राप्त करना आवश्यक है, तो उसमें चूना डालें.
  • खेतों में पानी की निकासी की अच्छी योजना बनाएं और फसलों को आवश्यकता से अधिक पानी नहीं दें.
  • अधिक मात्रा में पोटाश उर्वरक नही डालें.
  • मिट्टी की नमी को बरक़रार रखने के लिए जैविक पलवार का प्रयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!