- स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी स्ट्रॉबेरी

फ़ॉस्फ़ोरस की कमी

कमी

Phosphorus Deficiency


संक्षेप में

  • किनारों से आरंभ करते हुए पत्तियां बैंगनी रंग की होने लगती हैं.
  • मुड़ी हुई पत्तियाँ.
  • रुका हुआ या अवरुद्ध विकास।.
 - स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी स्ट्रॉबेरी

लक्षण

फ़ॉस्फ़ोरस न्यूनता के लक्षण सभी चरणों में दिखाई दे सकते हैं, लेकिन ये युवा पौधों में अधिक स्पष्ट दिखते हैं। अन्य पोषक तत्वों की तुलना में, इस तत्व की कमी के लक्षण बहुत स्पष्ट नहीं होते हैं और इन्हें पहचानना कठिन हो सकता है। हल्की न्यूनता के मामले में, पौधों का बौना या छोटा रह जाना इस विकार का संभव संकेत है। लेकिन, पत्तियों पर कोई स्पष्ट लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। गंभीर न्यूनता के मामले में, तने और डंठल गहरे हरे से लकर बैंगनी रंग लिए हुए बदरंग हो जाते हैं। नोक और किनारों से शुरू करते हुए और बाद में पत्ती के बाकी हिस्से में फैलते हुए, पुरानी पत्तियों की निचली सतह भी बैंगनी रंग दिखाती है। ये पत्तियां चमड़े जैसी हो सकती हैं और इसकी शिराएं एक भूरे रंग की जाली बना लेती हैं। कुछ मामलों में, फ़ॉस्फ़ोरस न्यूनता में पत्तियों की जली हुई नोक और किनारों पर पर्ण हरित हीनता (क्लोरोसिस) और गले हुए हिस्से विकसित हो जाते हैं। फूल और फल उत्पन्न होते हैं, लेकिन फलों की उपज बहुत कम होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फ़सलों के बीच फ़ॉस्फ़ोरस न्यूनता के प्रति संवेदनशीलता में अंतर देखा जाता है। मिट्टी के पानी में फ़ॉस्फ़ेट आयन के घुल जाने पर जड़ें इन्हें अवशोषित करती हैं। उच्च कैल्शियम मात्रा वाली चूनेदार मिट्टी में फ़ॉस्फ़ोरस की कमी हो सकती है। लेकिन, आमतौर पर, इस पोषक तत्व की उपलब्धता इसलिए सीमित हो जाती है क्योंकि फ़ॉस्फ़ोरस मिट्टी के कणों से चिपक जाता है और इस वजह से पौधे इसे अवशोषित नहीं कर पाते हैं। क्षारीय मिट्टी और अम्लीय मिट्टी दोनों में कम उपलब्धता देखी जा सकती है। कम जैविक मात्रा या लौह से समृद्ध मिट्टी भी समस्याएं पैदा कर सकती हैं। ठंडा मौसम, जो जड़ों के उचित विकास और कार्यक्षमता को सीमित करता है, भी यह विकार पैदा कर सकता है। सूखे की स्थितियां या रोग, जो पानी और पोषक तत्वों का जड़ों द्वारा अवशोषण सीमित करते हैं, भी न्यूनता के लक्षण पैदा कर सकते हैं। इसके विपरीत, मिट्टी की नमी इस पोषक तत्व के पौधे द्वारा अवशोषण को बढ़ाती है और काफ़ी हद तक उपज में सुधार ला सकती है।

जैविक नियंत्रण

पशु खाद या अन्य सामग्री (जैसे, जैविक पलवार, कम्पोस्ट और पक्षियों की बीट), या इनके संयोजन की मदद से मिट्टी में फ़ॉस्फ़ोरस के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। कटाई के बाद पौधों के अवशेषों को मिट्टी में शामिल करने से भी दीर्घकाल में फ़ॉस्फ़ोरस का अच्छा संतुलन बनाकर रखा जा सकता है और मिट्टी की संरचना को सुधारा जा सकता है। जैविक पदार्थ की गलन भी पौधों के लिए आसानी से उपलब्ध फ़ॉस्फ़ोरस की आपूर्ति प्रदान करता है।

रासायनिक नियंत्रण

- फ़ॉस्फ़ोरस (P) युक्त उर्वरकों का प्रयोग करें। - उदाहरण: डायमोनियम फ़ॉस्फ़ेट (DAP), सिंगल सुपर फ़ॉस्फ़ेट (SSP)। - अपनी मिट्टी और फसल के लिए सबसे अच्छे उत्पाद और खुराक के बारे में जानने के लिए अपने कृषि सलाहकार से परामर्श करें। अतिरिक्त सिफ़ारिश: - अपने फसल उत्पादन को बेहतर करने के लिए फसल के मौसम की शुरुआत से पहले मिट्टी का परीक्षण करने की सलाह दी जाती है।

निवारक उपाय

  • ऐसी क़िस्मों का उपयोग करें जो मिट्टी से फ़ॉस्फ़ोरस को जज़्ब करने में प्रभावी होती हैं.
  • फ़सल में संतुलित और प्रभावी उर्वरीकरण सुनिश्चित करें.
  • कटाई के बाद, पौधों के अवशेषों को मिट्टी में मिला दें.
  • मिट्टी में पोषक तत्वों का संतुलन बनाए रखने के लिए खनिज और जैविक उर्वरकों का इस्तेमाल करें.
  • मिट्टी का उपयुक्त पीएच पाने के लिए मिट्टी में चूना डालें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!