- मूंगफली

मूंगफली मूंगफली

मैंगनीज़ की कमी

कमी

Manganese Deficiency


संक्षेप में

  • नई पत्तियों पर शिराओं के बीच चितकबरी, छितरी हुई, हल्के हरे से लेकर पीलापन लिए हुए हरित हीनता.
  • हरित हीन क्षेत्रों में छोटे परिगलित धब्बे बन जाते हैं.
  • उपचार न करने पर, पत्तियों की सतह पर भूरे गले हुए धब्बे बन सकते हैं.
  • गंभीर रूप से प्रभावित पत्तियां भूरी पड़कर मुरझा जाती हैं।.
 - मूंगफली

मूंगफली मूंगफली

लक्षण

अन्य पोषक तत्वों की कमी की तुलना में लक्षण कम मुखर होते हैं और बहुत हद तक संबंधित फसल पर निर्भर करते हैं। मैंगनीज़ की कमी वाले पौधों में बीच और ऊपर (नई) की पत्तियों की शिराएं हरी बनी रहती हैं, जबकि पत्ती की सतह का शेष हिस्सा पहले हल्का हरा पड़ जाता है और फिर उन पर हल्के हरे से पीले क्षेत्रों के साथ चितकबरे (शिराओं के बीच हरित हीनता या क्लोरोसिस) धब्बे विकसित हो जाते हैं। समय के साथ, हरित हीन ऊतकों पर छोटे परिगलित धब्बे बन जाते हैं, विशेष तौर पर किनारों और सिरों पर (नोक का झुलसना)। पत्ती का छोटा आकार, विकृति और पत्तियों के किनारों का मुड़ना अन्य संभावित लक्षण हैं। उपचार न करने पर, पत्तियों की सतह पर भूरे परिगलित धब्बे बन सकते हैं और गंभीर रूप से प्रभावित पत्तियां भूरी पड़कर मुरझा जाती हैं। इन्हें मैग्नेशियम की कमी न समझें, जिसके लक्षण लगभग समान होते हैं, लेकिन वे पहले पुरानी पत्तियों पर विकसित होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मैंगनीज़ (Mn) की कमी एक व्यापक समस्या है, जो आम तौर पर रेतीली मिट्टी, 6 से अधिक पीएच वाली जैविक मिट्टी और मौसम की मार झेलने वाली गर्म क्षेत्रों की मिट्टी में पाई जाती है। इसके उलट, अत्याधिक अम्लीय मिट्टी इस पोषक तत्व की उपलब्धता बढ़ा देती है। उर्वरकों के अत्याधिक या असंतुलित इस्तेमाल के कारण भी कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व पौधे को उपलब्ध होने के लिए एक-दूसरे से मुकाबला कर सकते हैं। मैंगनीज़ की प्रकाश संश्लेषण और नाइट्रेट के उपयोग में भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। आयरन, बोरॉन और कैल्शियम की तरह मैंगनीज़ भी पौधे के अंदर गतिहीन होता है और अधिकतर नीचे की पत्तियों में एकत्रित रहता है। यही कारण है कि लक्षण पहले नई पत्तियों पर विकसित होते हैं। मैंगनीज़ की कमी के प्रति अधिक संवदेनशीलता और इस पोषक तत्व के साथ उर्वरक डालने पर सकारात्मक प्रभाव प्रदर्शित करने वाली फसले हैं - खाद्यान्न, दालें, गुठली वाले फल, पाम फसलें, नींबू वंश, चुकंदर और कैनोला, आदि।

जैविक नियंत्रण

पोषक तत्वों और मिट्टी की पीएच संतुलित करने के लिए खाद, जैविक पलवार या कंपोस्ट का इस्तेमाल करें। इनमें जैविक पदार्थ होता है जो मिट्टी में धरण (पत्तियों और पौधों की सामग्री के अपघटन से बना मिट्टी का जैविक तत्व) की मात्रा और उसकी पानी धारण करने की क्षमता बढ़ा देता है जबकि पीएच थोड़ी कम कर देता है।

रासायनिक नियंत्रण

- मैंगनीज़ (Mn) युक्त उर्वरक का प्रयोग करें। - उदाहरण: मैंगनीज़ सल्फ़ेट (Mn 30.5%) आमतौर पर मिट्टी और पत्तियों पर लगाने के लिए उपयोग किया जाता है। - अपनी मिट्टी और फसल के लिए सबसे अच्छे उत्पाद और खुराक के बारे में जानने के लिए अपने कृषि सलाहकार से परामर्श करें। अतिरिक्त सिफ़ारिश: - अपने फसल उत्पादन को बेहतर करने के लिए फसल के मौसम की शुरुआत से पहले मिट्टी का परीक्षण करने की सलाह दी जाती है।

निवारक उपाय

  • मिट्टी के पीएच की जांच करें और पोषक तत्वों के उचित अवशोषण के लिए सबसे अच्छी सीमा प्राप्त करने के लिए इसे अनुकूल बनाएं.
  • खेतों से जल निकासी की अच्छी व्यवस्था करें और फसल में आवश्यकता से अधिक पानी न दें.
  • मिट्टी की नमी स्थिर रखने के लिए जैविक पलवार का इस्तेमाल करें.
  • हमेशा ध्यान रखें कि केवल संतुलित उर्वरक के इस्तेमाल से ही पौधे का आदर्श स्वास्थ्य और अधिक उपज प्राप्ति संभव है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!