- टमाटर

टमाटर टमाटर

बोरोन की कमी

कमी

Boron Deficiency


संक्षेप में

  • पत्तियों का पीला और मोटा होना.
  • पत्तियों और तने का भुरभुरा होना.
  • पत्तियों का हरिद्ररोग।.
 - टमाटर

टमाटर टमाटर

लक्षण

फसल और बढ़ोतरी की परिस्थितियों के आधार पर लक्षण बदलते रहते हैं, लेकिन आम तौर पर, वे नए विकास पर पहले दिखाई देते हैं। सबसे पहले संकेत आमतौर पर युवा पत्तियों का मलिनकिरण और मोटा होना होता है। पीला पड़ना एक समान हो सकता है या विस्तारपूर्ण तरीके से अंतःशिरीय हो सकता है, मुख्य नसों से दूरी के साथ धीरे-धीरे रंग उड़ता रहता है। नई टहनियों की नोक के पास की पत्तियां और तने भुरभुरे हो जाते हैं और मोड़ने पर आसानी से टूट जाते हैं। पत्तियां सिकुड़ सकती हैं (अंतःशिरीय क्षेत्रों में थोड़ी उठी हुई) और नोक और पार्श्व पालियां मुड़ सकती हैं। कुछ मामलों में, पत्ती की नसें मोटी और उठी हुई हो सकती हैं और पत्ती की डंठल मुड़ सकती हैं। शिखर के पास गांठों के बीच की दूरी कम होने से घनी पत्तियां पैदा हो सकती हैं। अधिक गंभीर मामलों में, कमी के कारण बढ़ोतरी की बिंदुओं में हरिद्ररोग पैदा हो सकता है। भंडारण जड़ें अक्सर छोटी और कुंद कोनों वाली होती हैं और कमी के बढ़ने के साथ-साथ खंडित हो सकती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

बोरन की कमी आम तौर पर एक उच्च पीएच मिट्टी में पाई जाती है क्योंकि इन स्थितियों में यह तत्व रासायनिक रूप में रहता है, यानी पौधे के लिए उपलब्ध नहीं रहता है। कम जैविक पदार्थ की मिट्टी (<1.5%) या रेतीली मिट्टी (पोषक तत्वों के बाहर बहने की प्रवृत्ति) भी बोरान की कमी के प्रति अतिसंवेदनशील होती है। बोरन को लगाना उन मामलों में कमी को ठीक नहीं कर सकता है क्योंकि यह पौधों द्वारा अवशोषण के लिए अनुपलब्ध रह सकता है। पत्तियों के लक्षण अन्य रोगों के समान हो सकते हैं: नकली मकड़ी के घुन, जस्ता की कमी या लोहे की हल्की कमी। भंडारण की जड़ों में, छालों की तरह उठे हिस्से और फटना जड़ की गाँठ के गोल कृमि के लक्षण या मिट्टी की नमी में तेज़ी से परिवर्तन के कारण हो सकते हैं। कैल्शियम की कमी के कारण नई टहनियों और जड़ों की नोकें मर सकती हैं, लेकिन नई टहनियों की नोक के नीचे की युवा पत्तियां मोटी नहीं होती हैं और अंतःशिरीय पीलेपन का विकास नहीं दर्शाती हैं।

जैविक नियंत्रण

खेत में खाद लगाकर अच्छे जैविक पदार्थ की सामग्री और पानी के अच्छे प्रतिधारण की क्षमता सुनिश्चित करके मिट्टी को स्वस्थ रखें।

रासायनिक नियंत्रण

- बोरोन (बी) युक्त उर्वरकों का इस्तेमाल करें। - उदाहरण: पत्तियों पर छिड़काव के लिए डाइसोडियम ऑक्टाबोरेट टेट्रहाइड्रेट (बोरॉन 20%)। - अपनी मिट्टी और फ़सल के लिए सर्वोत्तम उत्पाद और खुराक जानने के लिए अपने कृषि सलाहकार से परामर्श करें। अतिरिक्त सिफ़ारिशें: - अपने फ़सल उत्पादन का अनुकूलन करने के लिए फ़सल के मौसम की शुरुआत से पहले मिट्टी का परीक्षण करने की सिफ़िरिश दी जाती है। - मिट्टी में बोरान लगाना बेहतर होता है क्योंकि पत्तियों पर छिड़काव से कई फसलों की पत्तियों को नुकसान पहुंच सकता है।

निवारक उपाय

  • उच्च पीएच युक्त, मिट्टी खनिज, आइरन या एल्यूमीनियम ऑक्साइड से समृद्ध मिट्टी से बचें.
  • उच्च वायु आर्द्रता और मिट्टी की निम्न नमी से बचें.
  • मिट्टी में अधिक मात्रा में उर्वरक और चूना न डालें.
  • फसलों में ज़्यादा पानी डालने से बचें.
  • अपने खेत के पोषक तत्व स्तरों की संपूर्ण समझ प्राप्त करने के लिए मिट्टी का परीक्षण नियमित रूप से करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!