- शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

स्लग (घोंघा)

अन्य

Gastropoda


संक्षेप में

  • पत्तियों, तनों, फूल, लताओं और कंद में खाये जाने से क्षति.
  • पौधों की पत्तियों और मिट्टी की सतह पर लिसलिसी चांदी जैसा रास्ता बना दिखता है.
  • युवा पौधों को मार सकते हैं।.
 - शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

लक्षण

स्लग और घोंघे एक व्यापक कीट हैं, जिनकी घनी आबादी फ़सलों में गंभीर तबाही पैदा कर सकती है। वे पत्तियों में अनियमित और अक्सर बड़े छेद कर देते हैं, लेकिन ये तनों, फूलों, कंदों और बीज कंदों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। आलुओं में, छिलके में गोल, सतही छिद्र कर सकते हैं या कंद में बड़ी गुफाएं खोद सकते हैं, जिसके कारण काफी नुक्सान होता है। पौधे की पत्तियों आर मिट्टी की सतह पर लिसलिसा चांदी जैसा रास्ता देखा जा सकता है। इन्हें युवा कोमल पौधे अधिक पसंद होते हैं और नए अंकुरों को पूरी तरह खाकर यह मार भी सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

स्लग और घोंघे सड़ते हुए जैविक पदार्थों, जैसे अनेक फ़सलों की पत्तियों, जड़ों और कंदों पर भोजन करते हैं। स्लग ज़मीन के नीचे रहते हैं, आमतौर पर पौधे की तनों की दरारों और केंचुओं द्वारा बनाई गई सुरंगों में। वे केवल समागम के लिए सतह पर आते हैं। आलू में, ये उसके छिलके पर गोल सतही छेद कर सकते हैं या कंदों में बड़ी सुरंगें बना सकते हैं, जिससे फ़सल को अत्यधिक नुकसान पहुंचता है। ये जानवर गीली परिस्थितियों में पनपते हैं। इसलिए, संक्रमण मुख्यतः शबनमी रातों या बारिश के बाद होता है। अधिकांश प्रजातियां हल्की सर्दी में जीवित रहती हैं और वसंत में फिर से सक्रिय हो जाती हैं।

जैविक नियंत्रण

जैविक किसान फ़ेरिक फ़ॉस्फ़ेट पर आधारित टिकियों का उपयोग भी पसंद करते हैं। खेती प्रबंधन के अच्छे अभ्यासों द्वारा जंगली चूहों, पक्षियों, मेंढक, भेक, केंचुओं (ब्लाइंडवॉर्म) और ज़मीनी भृंगों जैसे शिकारी जब खेत में उपस्थित हों तब नियंत्रित कर सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। उनकी विविधता और जीवन चक्र के कारण, घोंघे आम तौर पर रासायनिक नियंत्रण की पहुंच से बाहर होते हैं। मेटलडिहाइड पर आधारित टिकियों का उपयोग करके उन्हें अपने छेद से बाहर निकाला जा सकता है। इन्हें बारिश के बाद फैला दें जब स्लग और घोंघे अधिक सक्रिय होते हैं।

निवारक उपाय

  • उच्च और मध्यम प्रतिरोधी किस्मों का चयन करें.
  • जल्द रोपण करें अथवा जल्दी कटने वाली प्रजातियों को चुनें.
  • भारी मिट्टी में रोपण करने से बचें क्योंकि घोंघों को यह मिट्टी पसंद होती है।घोंघों को शिकारियों के समक्ष लाने के लिए रोपण से पहले मिट्टी की एक या दो बार जुताई करें.
  • इन कीटों को दूर रखने के लिए अपनी फ़सल के आसपास कॉफ़ी पाउडर छिड़क दें.
  • अपनी फ़सल के चारों ओर एक बाड़ा या जाल लगा दें.
  • पुराने गीले मोज़े और सड़ी हुई लकड़ी के फट्टों का गैर-घातक जालों के रूप में उपयोग करें.
  • संक्रमण को कम करने के लिए स्लग या घोंघों को हाथ से उठाकर हटा दें.
  • सुबह के समय अत्यधिक सिंचाई से बचें.
  • खेत तथा उसके आसपास से खर-पतवार हटा दें.
  • शिकारियों की आबादी को प्रोत्साहित करें.
  • जितनी जल्दी हो सके फ़सल की कटाई करें.
  • खेतों से पलवार को हटा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!