- धान

धान धान

सूत्रकृमि

अन्य

Nematoda


संक्षेप में

  • अवरुद्ध विकास.
  • पत्तियों कॉपी पीला पड़ना, मुरझाना और विकृति.
  • जड़ों में गांठें या कंद बनने लगते हैं.
  • जड़ प्रणाली का ह्रास.
  • तने भी प्रभावित हो सकते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

प्रजाति, संख्या और मेज़बान पौधे पर निर्भर करते हुए सूत्रकृमियों के प्रकोप के विभिन्न लक्षण नज़र आते हैं। कुछ सूत्र कृमियों के कारण उनके मेज़बान पौधों में जड़ों का निर्माण बढ़ जाता है और जड़ों में गांठें या सख़्त संरचनाएं (गॉल या फोड़े) बन जाती हैं। वहीं, अन्य प्रजातियां जड़ों में बड़े पैमाने पर घाव बनाती हैं और जड़ो के आतंरिक हिस्से कमज़ोर पड़ जाते हैं। कई मामलों में, इन घावों पर कवक या मिट्टी के जीवाणुओं का भी हमला हो जाता है। पानी और पोषक तत्व पौधे के ऊपरी भागों तक नहीं पहुँच पाते हैं। संक्रमित पौधों में विकास अवरुद्ध हो जाता है और उनकी पत्तियाँ मुड़ने और विकृति के संकेतों के साथ पीली पड़ने लगती हैं। कभी-कभी तने भी प्रभावित होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सूत्रकृमि सूक्ष्म गोल कृमि होते हैं जो मिट्टी में रहते हैं, जहां से वे मेज़बान पौधे की जड़ों को संक्रमित करते हैं। सामान्यतः, ये लाभप्रद जीव होते हैं, किन्तु जब इनकी संख्या एक ख़तरनाक स्तर तक पहुँच जाती है, तो ये पौधों को हानि पहुँचाने लगते हैं। इनमें एक नुकीली संरचना होती है जिसका इस्तेमाल ये जड़ों और पौधों के भूमि के नीचे के भागों, कुछ मामलों में पत्तियों और फूलों में भी, छेद करके घुसने के लिए करते हैं। सूत्रकृमियों की भक्षण और जीवित रहने की कई रणनीतियाँ होती हैं और ये मिट्टी में कई वर्षों तक जीवित रह सकते हैं। ये मध्यवर्ती मेज़बानों के माध्यम से अपनी संख्या बढ़ाते हैं। ये जीवाणुओं, विषाणुओं और कवकों से होने वाले रोगों को भी फैलाते हैं।

जैविक नियंत्रण

कुछ मामलों में जैविक नियंत्रक कारगर हो सकते हैं। उदाहरण के तौर पर, कवक निमाटोफ़ोरा गायनोफ़िला और वर्टिसिलियम क्लेमिडोस्पोरियम को अनाजों में कुछ हद तक सूत्र कृमियों में कमी और/या दमन का कारण माना गया है। गेंदे की प्रजातियों, मैरिगोल्ड (टेजेटेस पेटुला) और कैलेंडुला (कैलेंडुला ओफ़िशिनलिस) के सत का मिट्टी में इस्तेमाल कुछ हद तक संख्या कम कर सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित नज़रिये से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। उपचार सूत्रकृमि की प्रजाति पर निर्भर करता है। कृमिनाशकों (डेज़ोमेट) का मिट्टी में धुँआ करने के लिए इस्तेमाल करके संख्या कम की जा सकती है, लेकिन यह अधिकांश किसानों के लिए आर्थिक रूप से लाभप्रद नहीं होता। इनमें से कुछ उत्पादों का पत्तियों पर छिड़काव किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो पौधों की प्रतिरोधी या सहनशील किस्मों का इस्तेमाल करें.
  • फसलों के बीच गेंदे की किस्मों, मैरिगोल्ड या कैलेंडुला, या फूलदार पौधे लगाने से सूत्र कृमियों की संख्या कम की जा सकती है.
  • गोलकृमि को मारने के लिए कई सप्ताह तक खेतों को प्लास्टिक की पलवार से ढक दें.
  • खेतों की जुताई करें और मिट्टी को सूरज की रोशनी के संपर्क में लाएं (सौरीकरण).
  • अत्यधिक प्रकोप होने पर, कुछ महीनों के लिए खेत को जुताई करके खाली छोड़ने पर विचार करें.
  • कुछ वर्षों तक विविध फ़सलों के साथ चक्रीकरण सुनिश्चित करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!