- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

शैवाल के कारण आम की पत्तियों पर धब्बे (अल्गल लीफ़ स्पॉट)

अन्य

Cephaleuros virescens


संक्षेप में

  • पत्तियों पर हरे से नारंगी रंग रोएंदार धब्बे.
  • युवा तने की छाल पर दरारें.
  • पत्तियों का झड़ना।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

परजीवी एल्गा सी. विरेसेंस आम तौर पर आम और अन्य धारकों की पत्तियों को प्रभावित करता है, लेकिन ये शाखाओं और तनों पर भी आक्रमण कर सकता है। संक्रमित पत्तियाँ 2-4 मिमी व्यास के गोल, हल्के-से उभरे हुए हरे से नारंगी धब्बे दिखाती हैं, जिन पर रोएंदार वृद्धियाँ (शैवाल के बीजाणु) और अस्पष्ट किनारे दिखाई देते हैं। बड़े क्षेत्रों में उनका विलय हो सकता है। सी. विरेसेंस रोगजनकों के प्रति अधिक संवेदनशील युवा तनों की छाल में दरारें पैदा हो सकती हैं, जिससे शीर्षारंभी क्षय हो सकता है। कई पेड़ों पर, नीचे लटकने वाली शाखाओं की पत्तियाँ सबसे खराब लक्षण दिखाती हैं। आम तौर पर, उच्च तापमान और वर्षा के क्षेत्रों में, और खराब विकास वाले पौधों में अल्गल लीफ़ स्पॉट दिखाई देता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

उच्च तापमान और अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में और जहाँ धारक पौधों का विकास सही नहीं है, वहाँ अल्गल लीफ़ स्पॉट अधिक पाया जाता है। खराब पोषण, मिट्टी की खराब जल निकासी और बहुत ज़्यादा या बहुत कम छाया ऐसी स्थिति पैदा करती है जो बीमारी को बढ़ने में मदद करे। बीजाणुओं को अंकुरित होने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। वे बारिश की बौछारों या हवा से दूसरे पेड़ों तक फैलते हैं। सी. वीरेसेंस अपने धारक पौधे का पानी और खनिज पदार्थ चूस लेता है, और यही कराण है कि इसे एक पानी के परजीवी के रूप में माना जाता है। अल्गल वृद्धि पत्तियों को तब तक ढांके रहती है जब तक वे झड़ नहीं जातीं। अक्सर, सतह पर उपस्थित युवा बस्तियाँ बारिश से धुल जाती हैं। घावों के माध्यम से पत्तियों में प्रवेश करने वाले बीजाणु ही घावों का उत्पादन करते हैं। जो ऊतक घायल न हों, उनमें इनकी उपस्थिति के कोई सबूत नहीं पाए गए हैं।

जैविक नियंत्रण

जब रोग हल्का होता है, तो धब्बेदार पत्तियों को हटाकर नष्ट कर दें, साथ ही रोगग्रस्त शाखाएं भी हटा दें। इसके अतिरिक्त, ज़मीन पर प्रभावित पत्तियों को निकालें और नष्ट कर दें। जब अल्गल लीफ़ स्पॉट गंभीर होता है, तो बोर्डो मिश्रण या अन्य कॉपर-आधारित उत्पादों को स्प्रे करें। गर्मियों की शुरुआत से शरद ऋतु के अंत तक प्रत्येक 2 सप्ताह पर छिड़काव किया जाना चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। रासायनिक नियंत्रण आवश्यक होने पर कॉपर युक्त कवकनाशी स्प्रे का उपयोग करें।

निवारक उपाय

  • पंक्तियों को उचित रूप से व्यवस्थित करके वायु संचालन बेहतर करें.
  • पौधे पर तनाव को कम करने के लिए रोपण की स्थितियों में सुधार करें.
  • बेहतर जल निकासी के माध्यम से जल भराव से बचें.
  • पर्णसमूह तेज़ी से सूख जाए, इसके लिए दिन में जल्दी पानी का छिड़काव करें.
  • जब भी संभव हो, ऊपरी सिंचाई से बचें.
  • जब विकास खराब हो, तो खनिज उर्वरकों का उपयोग करें.
  • पोटेशियम फॉस्फेट वाले स्प्रे लगाएं.
  • फसल की छाया में परिवर्तन करें, विशेषकर यदि शीर्षारंभी क्षय उत्पन्न हो रहा हो.
  • सुनिश्चित करें कि पौधे की घनत्वता पत्तियों और फलों के तेज़ी से सूखने के लिए हवा का संचलन सही रखती है.
  • पोषक तत्वों और आर्द्रता के लिए प्रतिस्पर्धा कम करने के लिए पेड़ों के चारों ओर से खर-पतवार हटाएं.
  • यांत्रिक औज़ारों के कारण होने वाले घाव से बचाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!