- कपास

कपास कपास

उर्वरक या कीटनाशक से जलना

अन्य

Fertilizer Burn


संक्षेप में

  • पत्तियों के किनारे भूरे पड़ना तथा पत्तियों का झुलस जाना.
  • वृद्धि घटना।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

अत्याधिक उर्वरक इस्तेमाल से क्षति आम तौर पर पत्तियों के भूरे किनारों या पत्तियों के झुलसने के रूप में दिखती है। उर्वरकों के घुलने वाले लवण जड़ों के ऊतकों की नमी सोख लेते हैं जिससे पौधा मुरझा जाता है, पत्तियों के किनारे पीले पड़ जाते हैं या पौधे पूरी तरह विकसित नहीं हो पाते। पत्तियों का जलना या झुलसना कुछ उर्वरकों से सीधे संपर्क के कारण भी हो सकता है, जैसे दानेदार उर्वरकों को फैलाने से और घोल का छिड़काव करने से। मिट्टी का प्रकार, सिंचाई के तौर-तरीके, लवण स्तर, और विशिष्ट पौधों की संवेदनशीलता जैसे कारक भी क्षति का दायरा प्रभावित कर सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण उर्वरकों का अत्यधिक प्रयोग है। मिट्टी का प्रकार, सिंचाई के तरीकों, लवण का स्तर तथा पौधों विशेष में संवेदनशीलता जैसे कुछ कारक हैं जो नुकसान की मात्रा को नियंत्रित करते हैं। पौधों को गर्म सूखे मौसम में अधिक क्षति होती है। उर्वरकों में पाए जाने वाले लवण सूखे की स्थितियों में मिट्टी में अधिक जमा जा जाते हैं। इस कारण से सीधे जड़ को नुकसान पहुंचता है जिसका नतीजा पौधे के ऊपरी हिस्सों में पत्तियों के झुलसने के रूप में दिखता है। साथ ही, घुलनशीन लवण पानी के साथ पौधे में पहुंचकर पत्तियों में जमा हो जाते हैं जहां गर्म, सूखे दिनों में वाष्पोत्सर्जन या वाष्पीकरण से नमी तेज़ी से उड़ जाती है। ठंडे, बादलों वाले मौसम में मिट्टी में उचित नमी होने पर पत्तियों से नमी हानि की दर कम होती है जिससे कई पौधे बसंत में उच्च लवण स्तर सहन कर लेते हैं, लेकिन गर्मियों में ऐसा नहीं होता।

जैविक नियंत्रण

उर्वरकों की जलन के लिए कोई जैविके नियंत्रक ज्ञात नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

उर्वरक से जलने पर नियंत्रण के लिए कोई रासायनिक नियंत्रण विकल्प उपलब्ध नहीं है।

निवारक उपाय

  • उर्वरक से जलने की समस्याओं को सूखे दानेदार जैविक उर्वरकों का चुनाव करके रोका जा सकता है.
  • मिट्टी में हर वर्ष कुछ सेंटीमीटर कंपोस्ट मिलाने से भी सहायता मिलती है.
  • फैलाने के बाद पत्तियों पर से दानेदार उर्वरक साफ़ कर दें.
  • पत्तियों पर छिड़काव के लिए लेबल पर दिए निर्देशों के अनुसार घोल वाले उर्वरकों का इस्तेमाल करें.
  • जब मौसम बहुत शुष्क हो तो दानेदार उर्वरकों का प्रयोग न करें और प्रयोग के तुरंत बाद पौधे को जलने से बचाने के लिए अच्छी तरह पानी दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!