- धान

धान धान

बायोम्फ़ालेरिया घोंघे

अन्य

Biomphalaria spp.


संक्षेप में

  • धान के पौधे को आम तौर पर सीमित क्षति पहुंचती है.
  • इनमें से कुछ घोंघे इंसानों को संक्रमित कर सकने वाले परजीवियों के धारक भी होते हैं और इनसे सिस्टोसोमियासिस (बिलहर्ज़िया, स्नेल फीवर) नाम का रोग भी होता है.
  • स्थानीय आबादी को नुकसान से बचाने के लिए स्वच्छ पेयजल और शौचालय सुविधाएं आवश्यक हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

धान के पौधों को हुई क्षति सीमित होती है। परंतु, इनमें से कुछ घोंघे, जैसे कि बी. ग्लैब्रेटा, इंसानों को संक्रमित कर सकने वाले परजीवियों के माध्यमिक धारक होते हैं। इसलिए, सावधानी बरतनी ज़रूरी है क्योंकि यह घोंघे इंसानों के स्वास्थ्य के लिए ख़तरा हैं। इन परजीवियों से सिस्टोसोमियासिस (बिलहर्ज़िया, स्नेल फीवर) नाम का रोग होता है, और यह इंसानों तक परजीवी युक्त घोंघे वाले पानी (झील, तालाब, नदियां, बांध, दलदल, धान के खेत) के संपर्क में आने से फैलता है। यह मुख्य रूप से सिंचाई की नालियों, नहरों, नालियों, और बाढ़ से फैलता है। परंतु, झरनों और कुएं के पानी के विशेष रसायन शास्त्र के कारण ये उनमें नहीं पाए जाते हैं। स्थानीय आबादी को नुकसान से बचाने के लिए स्वच्छ पेयजल और शौचालय सुविधाएं आवश्यक हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

धान के पौधों की क्षति का कारण हवा में सांस लेने वाले ताज़े पानी के बायोम्फ़ालेरिया वंश के घोंघे हैं। बायोम्फ़ालेरिया की सभी प्रजातियां उभयलिंगी होती हैं, यानी इनमें नर और मादा दोनों जननांग होते हैं और ये स्व-निषेचन या एक-दूसरे से निषेचन में समर्थ होते हैं। अंडे कुछ अंतराल में 5-40 के समूह में दिए जाते हैं और हर समूह जेली जैसे पदार्थ से ढंका रहता है। अंडों से बच्चे 6-8 दिन बाद निकलते हैं, और प्रजाति के प्रकार और मौसम की परिस्थितियों पर निर्भर करते हुए ये 4-7 सप्ताह में वयस्क हो जाते हैं। तापमान और भोजन की उपलब्धता सबसे बड़े नियंत्रक हैं। एक घोंघा अपने जीवनकाल में 1000 अंडे तक देता है। इनका जीवनकाल करीब 1 वर्ष का होता है।

जैविक नियंत्रण

तालाबों में तिलापिया या गप्पी की प्रजाति की मछलियां बायोम्फ़ालेरिया की आबादी पर काबू पाने का प्रभावी तरीका हैं। तालाब का उचित प्रबंधन उन्हें सिस्टोसोमियासिस के माध्यमिक मेज़बानों से मुक्त रखने के लिए ज़रूरी है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। इंसानों में सिस्टोसोमियासिस का उपचार प्राथमिक तौर पर प्राज़िक्वांटेल से किया जाता है। दवा की एक खुराक से ही संक्रमण की गंभीरता और लक्षणों की विकटता में कमी देखी गई है। दूषित पानी में दोबारा कार्य न करें क्योंकि फिर से संक्रमण हो सकता है। रोग फैलाव का क्रम तोड़ने के लिए घोंघों पर नियंत्रण ज़रूरी है।

निवारक उपाय

  • इन घोंघों की मौजूदगी पर नज़र रखने के लिए खेत की निगरानी ज़रूरी है.
  • मौसम के दौरान, खेतीबाड़ी के अच्छे अभ्यासों का पालन करें.
  • सावधानी इसलिए भी बरतनी चाहिए क्योंकि चिकित्सीय रूप से घोंघे इंसानों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!