- धान

धान धान

सुनहरा घोंघा (गोल्डन एप्पल स्नेल)

अन्य

Pomacea canaliculata


संक्षेप में

  • पौधों का खड़ा रहना मुश्किल हो जाता है क्योंकि घोंघे पानी की सतह के नीचे डंठल को क्षति पहुंचाते हैं.
  • ये पानी में डूबी नई निकलती टहनियों और पत्तियों को खाते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

यह पूरी तरह आर्द्रभूमि में उगाए जाने वाले धान का कीट है। क्षति का पहला लक्षण पौधे की खड़े रहने की क्षमता कम होना है क्योंकि घोंघें पानी के नीचे पौधे की डंठल काट देते हैं। फ़सल शुरुआती पौधरोपण अवस्था में अतिसंवेदनशील होती है। इसलिए, घोंघे मुख्य रूप से गीली मिट्टी में बीजारोपित या पौधरोपित धान को 30 दिन का होने तक क्षति पहुंचाते हैं। इसके बाद, तना काफ़ी मोटा हो जाता है और घोंघे इसके सख़्त हिस्से नहीं खा पाते हैं। आम तौर पर घोंघे पहले नई निकलने वाली टहनियों को काटते हैं, और फिर पानी के नीचे की पत्तियों और तनों को। अन्य पौधे जैसे अरबी (कोलोकेसिया एस्कुलेंटामे) पर भी हमला हो सकता है। इस कीट का जीवन काल 119 दिन से 5 वर्ष तक का होता है। तापमान जितना ज़्यादा होता है, जीवन उतना ही कम होता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण गोल्डन एप्पल स्नेल की दो प्रजातियां पोमेसिया कैनालिकुलाटा और पी. मैकुलाटा हैं। ये बहुत हमलावर होते हैं और धान की फ़सल को गंभीर क्षति पहुंचा सकते हैं। ये आम तौर पर पानी के रास्तों (सिंचाई नहरें, कुदरती पानी वितरण) या बाढ़ आने पर फैलते हैं। पानी न होने पर ये घोंघे ख़ुद को कीचड़ में दबा लेते हैं और करीब 6 महीने तक शयन कर सकते हैं, और पानी आने पर फिर बाहर निकल आते हैं। धान के खेत में इन घोंघों को इनका रंग और आकार अन्य स्थानीय घोंघों से अलग करता है। गोल्डन एप्पल स्नेल का खोल कीचड़ जैसा भूरा होता है जबकि मांस सुनहरा गुलाबी या नारंगी-पीला होता है। स्थानीय घोंघों की तुलना में ये आकार में बड़े और रंग में हल्के होते हैं। इनके अंडे चमकीले गुलाबी रंग के होते हैं और कई सौ के गुच्छों में दिए जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

खेत की तैयारी, रोपण या फ़सल खड़ी होने के समय बड़े स्तर पर घोंघों और अंडों को इकट्ठा करना बहुत प्रभावी रहता है। घोंघों को पकड़कर पशु चारे के रूप में बेचा भी जा सकता है। घोंघे के अंडों को खाने वाली लाल चींटियों और तरुण घोंघों को खाने वाली चिड़ियों या बत्तखों जैसे कुदरती शिकारियों को बढ़ावा देना चाहिए। खेत की तैयारी के अंतिम चरण या जब पौधे स्थापित हो चुके हों और ऊंचे हो चुके हों, तो खेतों में घरेलू बत्तखों को छोड़ा जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। सामान्य उर्वरक इस्तेमाल दर और समय का पालन करते हुए घोंघों को ज़्यादा से ज़्यादा नुकसान पहुंचाने के लिए 2 सेंटीमीटर पानी में उर्वरक डालें। कीटनाशकों का इस्तेमाल पूरे खेत में करने के बजाय गड्ढों और पानी के रास्तों में किया जाना चाहिए। इन उत्पादों का इस्तेमाल सीधी बुवाई वाले धान के मामले में, पौधरोपण के तुरंत बाद या अंकुरों के स्थापित होने के चरण के दौरान केवल 30 दिन से कम के धान पर किया जाना चाहिए। हमेशा लेबल पढ़कर सुरक्षित रूप से इस्तेमाल करें।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ और मज़बूत अंकुर लगाएं.
  • धान के पौधे की अतिसंवेदनशील अवस्था (30 दिन से कम) में खेत अधिक से अधिक सूखा रखें या फिर इस अवस्था में पानी का स्तर 2 सेंटीमीटर से कम रखें.
  • कम घनी पौधशाला क्यारियों से हासिल 25-30 दिन पुराने सशक्त अंकुर रोपित करें.
  • सुबह-सुबह घोंघों को हाथ से पकड़ें और अंडों के गुच्छों को नष्ट कर दें.
  • घोंघों को आसानी से पकड़ने के लिए उन्हें धान के खेत में पपीते और कसावा की पत्तियां रखकर आकर्षित करें.
  • जहां से पानी खेत में घुसता और निकलता है, वहां कोई अवरोधक स्थापित करें.
  • खेत में बांस के खूंटे लगाएं ताकि घोंघे वहां अंडे दे सकें.
  • कीटनाशकों का नियंत्रित इस्तेमाल करें ताकि कुदरती शिकारी प्रभावित न हों।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!