- धान

धान धान

धान के डंठल का बदबूदार कीट

कीट

Tibraca limbativentris


संक्षेप में

  • नई निकल रही पत्तियों की मृत्यु, क्षतिग्रस्त तने (मृत केंद्रीय भाग) और फूल आने की अवस्था में सफ़ेद बालियां (व्हाइट हेड्स)।.
 - धान

धान धान

लक्षण

सिंचित और सूखे खेतों, दोनों में पाए जाने के बावजूद धान का बदबूदार कीट सूखे खेतों में विशेष तौर पर गंभीर समस्या बन सकता है। वयस्क और कीटडिंभ, दोनों धान के तरुण पौधों पर हमला करते हैं, जिस कारण मृत केंद्रीय भाग और सफ़ेद बालियों जैसे लक्षण पैदा होते हैं। मृत केंद्रीय भाग का अर्थ नई निकल रही पत्तियों और कुछ मामलों में पूरे तने की मृत्यु है। डाइट्रै वंश के पतंगे भी इसी तरह के लक्षण दर्शा सकते हैं। फूल आने की अवस्था में कीट पुष्पगुच्छ पर हमला करता है और सफ़ेद पुष्पगुच्छ या सफ़ेद किल्लों का कारण बनता है। ऐसा टी. लिंबैटिवेंट्रिस के पुष्पगुच्छ विकसित होने के दौरान पत्ती का रस चूसने से दानों के ज़हरीले होने के कारण होता है। नियंत्रण न किए जाने पर प्रकोप बहुत बढ़ जाता है और 80% तक हानि हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण धान के डंठल का गंधी कीट टिब्राका लिंबैटिवेंट्रिस है। यह मध्य और दक्षिण अमेरिका के मूल का है और धान के अलावा यह सोयाबीन, टमाटर और गेहूं पर भी हमला करता है। आम तौर पर यह फसल कटाई के बीच का समय खेत के बाहर बिताता है और नया रोपण होते ही लौट आता है। वयस्क और कीटडिंभ, दोनों ही पौधे को खाते हैं और सफ़ेद बालियां और मृत केंद्रीय भाग जैसे लक्षणों का कारण बनते हैं। लक्षणों का अर्थ क्रमशः दानों और तनों को होने वाली क्षति है। सूखी परिस्थितियों या कम नमी में उगाए जाने वाले धान में नुकसान ज़्यादा होता है। पानी की कमी के कारण कीट पौधे के आधार पर बना रहता है। फ़सल परिपक्व होने पर तनों के सख़्त होने (लिग्नीफ़िकेशन) से कीट का भक्षण बाधित हो जाता है और इसकी आबादी धीरे-धीरे कम हो जाती है।

जैविक नियंत्रण

टेलीनॉमस की प्रजाति अंडों की परजीवी है। कुछ मामलों में, इस प्रजाति को खेत में छोड़ने पर 90% तक परजीविता देखी गई है। अन्य कुदरती दुश्मनों में इफ़ेरिया वंश की मक्खियां शामिल हैं। मेटारहिज़ियम एनिसॉपले, ब्यूवेरिया बैसियाना, पेसिलिमाइसिस प्रजाति कॉर्डिसेप्स न्यूटंस पर आधारित उत्पाद उपयोगी होते हैं। कोनिडिया का इस्तेमाल सस्पेंशन के रूप में भी धान के पौधों पर किया जा सकता है। वंश पाइपर की सभी प्रजातियों का सुगंधित तेल (0.25 से 4%) अंडों के बचने की संभावना को कम करता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। यदि कोई और विकल्प उपलब्ध नहीं है, तो फ़ॉस्फ़ोरस, पायरेथ्रॉयड या कार्बामेट कीटनाशकों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • मिट्टी तैयार करने के दौरान फ़सल अवशेष नष्ट कर दें.
  • सुनिश्चित करें कि आपके आसपास के खेत अच्छी तरह प्रबंधित हों क्योंकि खाली छोड़े गए खेत कीट को बढ़ावा देते हैं.
  • पौधों के बीच अंतराल बढ़ा दें (150 पौधे/वर्ग मी.) क्योंकि घनापन उन्हें उनके कुदरती शिकारियों से बचाता है.
  • कीटनाशकों का इस्तेमाल संयम से करें ताकि इस प्रजाति के शिकारी प्रभावित न हों.
  • सिंचाई के पानी की गुणवत्ता पर ध्यानपूर्वक निगरानी करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!