- केला

केला केला

केले के पतंगा

कीट

Opogona sacchari


संक्षेप में

  • खाने के कारण हुई हानि जड़ों, टहनियों, डंठलों और फलों पर सुरंगों के रूप में दिखाई देती है.
  • पौधों को पूरी तरह से खोखला किया जा सकता है.
  • पत्तियाँ मुरझाई हुई दिखाई देती हैं और वे गिर सकती हैं.
  • असमय पर्णपात हो सकता है।.
 - केला

केला केला

लक्षण

संक्रमण वनस्पति विकास चरण, फूल खिलने के चरण, और फसल काटने के बाद भी हो सकता है। विशिष्ट रूप से, वयस्क पतंगे क्षतिग्रस्त और कमज़ोर पौधों की ओर आकर्षित होते हैं। भक्षण हानि केवल लार्वा के कारण होती है, जो आमतौर पर पौधों के सड़ रहे हिस्सों से आहार ग्रहण करते हैं। अवशेषों को खाने के बाद, वे पौधों के स्वस्थ हिस्सों (जड़ें, टहनियाँ, लघु टहनियाँ, डंठल और फल) को खाना आरंभ करते हैं। बीजों पर भी हमला हो सकता है। प्रारंभिक लक्षण सुरंगों के रूप में दिखाई देते हैं, लेकिन इन्हें शुरुआती चरणों में देख पाना बहुत मुश्किल होता है। अधिकतर, बाद के चरणों में इस पतंगे का पता चलता है। पौधों के गूदेदार हिस्सों को पूरी तरह से खोखला कर दिया जाता है तथा पत्तियाँ लटक जाती हैं। विपरीत स्थितियों में इसके कारण पत्तियां पूरी तरह झड़ सकती हैं तथा पौधा गिर सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण ओपोगोना सेशेरी प्रजातियों के लार्वा के कारण दिखाई देते हैं। ये पतंगे निशाचर होते हैं। उनका शरीर चमकीले भूरे रंग का होता है, उनका आकार करीब 11 मि.मी. का होता है, तथा उनके पंख 18-25 मि.मी. तक फैलते हैं। आगे के पंख, कभी-कभी एक लंबी गहरी धारी के साथ और नरों में गहरे भूरे रंग के धब्बों के साथ, एक समान रूप से भूरे होते हैं। पीछे के पंख, झालरदार किनारों के साथ, भूरे-काले और चमकीले होते हैं। मादा पौधों के ऊतकों के क्षतिग्रस्त हिस्सों या उनमें मौजूद दरारों में करीब 50-200 अंडे 5 के सूमहों में देती है। करीब 12 दिनों के बाद, सफ़ेद या हल्के हरे रंग का थोड़ा-सा पारदर्शी लार्वा अंडे से बाहर आता है। दोनों ओर आंखों जैसे चिन्ह के साथ लार्वा का सिर चमकीला लाल या भूरे रंग का होता है। लार्वा लगभग 50 दिनों के भीतर करीब 26 मि.मी. तक बढ़ जाता है। उसके बाद वे खाने की सुरंग के सिरे के अंतिम भाग में प्यूपा बनाते हैं। अतिरिक्त 20 दिनों के बाद, वयस्क पतंगों की एक नई पीढ़ी प्यूपा से बाहर आती है। इस विकास प्रक्रिया के लिए ठंडा तापमान (करीब 15° सेल्सियस) तथा सूखा मौसम अत्यंत अनुकूल होता है। यह अवधि गर्म मौसम में कम हो सकती है।

जैविक नियंत्रण

ग्रीनहाउस प्रयोगों में, स्टीनरर्नेमा फ़ेल्टे, हेट्रोर्हैबडाइटिस बेक्टरोफ़ोरा और हेट्रोर्हैबडाइटिस हेलियोथाइडिस जैसे गोल कीड़ों (नेमाटोडों) को लार्वा के विरूद्ध प्रभावी पाया गया है। साथ ही बैसिलस थ्यूरिनजेंसिस के उत्पादों का प्रयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा जैविक उपचारों के साथ सुरक्षात्मक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करे। उपचार के लिए आप इमिडाक्लोप्रिड वाले उत्पादों का प्रयोग कर सकते हैं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ बीजों तथा पौध सामग्री का उपयोग करें.
  • कीट के किसी भी प्रकार के चिन्ह की उपस्थिति हेतु पौधों या खेतों की नियमित रूप से जाँच करें.
  • संक्रमण को रोकने के लिए हाथ से चुनकर संक्रमित पौधों या पौधों के हिस्सों को नष्ट कर दें.
  • पौधे के सूखे हिस्सों को हटाकर नष्ट कर दें क्योंकि वे संक्रमण का स्रोत हो सकते हैं.
  • खेती के दौरान ध्यानपूर्वक काम करें और पौधों को यंत्रों से होने वाली क्षति से बचाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!