- अन्य

अन्य अन्य

पौधे का पश्चिमी कीट (कैट-फ़ेसिंग कीड़ा)

कीट

Lygus hesperus


संक्षेप में

  • नए फलों पर गड्ढे, खोखलापन, दाग़ और धंसे हुए धब्बे, जिससे पके हुए फलों पर विकृति या "कैट-फ़ेसिंग" लक्षण बन जाते हैं.
  • फल की सतह के नीचे सफ़ेद सख़्त स्थान होते हैं.
  • कलियां और नई टहनियां सिकुड़ कर मर जाती हैं, और उपज में काफ़ी कमी आ जाती है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

विकसित हो रही कलियों और नए फलों पर भक्षण के कारण हुई क्षति नए फलों पर कुरूप गड्ढे, खोखलापन, दाग़ और धंसे हुए धब्बे पैदा कर देती है। कटाई का समय आते-आते, फल बुरी तरह विकृत हो जाते हैं। इस लक्षण को अक़्सर "कैट-फ़ेसिंग" (बिल्ली के जैसा चेहरा) कहा जाता है, और सतह से रिसाव भी दिखाई दे सकता है। फलों की आंतिरक क्षति सतह के नीचे सफ़ेद सख़्त क्षेत्रों और सड़ रहे बीजों के रूप में दिखाई देती है। खाने की गतिविधि से कलियां और नई टहनियां भी विकृत हो सकती हैं या मर सकती हैं, जिसके कारण वे सिकुड़ और सूख जाती हैं, और उपज में भारी नुकसान पहुंचता है। इन कीड़ों के धारक पौधों की एक विस्तृत श्रंखला है, जिसमें बड़ी और छोटी गुठली वाले फल, बीहड़ स्थानों पर उगने वाली प्राकृतिक वनस्पति और पास के क्षेत्रों में उगने वाले खरपतवार शामिल हैं। ये कीट पेड़ों पर प्रजनन नहीं करते हैं, लेकिन इन मेज़बान पौधों से बाग़ानों पर हमला करते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

जिन लक्षणों को "कैट-फ़ेसिंग" (बिल्ली के जैसा चेहरा) कहा जाता है, वे कीड़ों की कई प्रजातियों उत्पन्न करती हैं, जिनमें पौधे का कीट लायगस हेस्पेरस और बदबूदार कीट (स्टिंग बग) यूस्शिस्टस कॉन्सपेरस शामिल हैं। ढकी हुई भूमि पर इनके वयस्क सर्दियां बिताते हैं। मौसम में जल्दी ही, ये बगल के खेतों में उपस्थित बड़ी पत्ते वाली फ़सलों या खरपतवारों पर भोजन करना शुरू कर देते हैं। गर्मियों में जब ये वैकल्पिक धारक सूखने लगते हैं, तो ये कीट उड़कर गुठलियों और फलदार पेड़ों की छतरी पर पहुंच सकते हैं। पौधे के वयस्क कीट चपटे, अर्ध-अंडाकार, पीले, हरे और गहरे भूरे से लेकर काले रंग के कीड़े होते हैं। इन सबकी पीठ पर एक स्पष्ट पीला या हल्का हरा त्रिकोण होता है। वयस्क बदबूदार कीटों का आकार चपटी हुई ढाल के जैसा होता है और ये रंग में धूसर से भूरे से हरे रंग के होते हैं। बदबूदार कीट उड़ते समय शोर करते हैं, और उनके लंबे, छेदने और चूसने वाले मुंह के हिस्से होते हैं।

जैविक नियंत्रण

इस कीट के शिकारियों में बिग आई, डैम्सल, असैसिन कीट और कोलोप गुबरैला शामिल हैं। माइन्यूट पाइरेट कीट इसके अंडों का शिकार करते हैं। परजीवी कीटों में एनाफ़ेस इयोलेस और ट्रिसोलकस हैलिमोरफ़े शामिल हैं, जो कैट-फ़ेसिंग कीट के अंडों पर अंडे देते हैं। नीम के अर्क पर आधारित उत्पाद भी एल. हेस्पेरस और ई. कॉन्सपेरस की आबादी को कम कर सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो रोकथाम उपायों और जैविक उपचारों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। एस्फ़ेनवलेरेट, फ़ॉर्मेटेनेट हाइड्रोक्लोराइड, मेथोमायल, इंडॉक्सिकार्ब या लाम्ब्डा-सायहेलोथ्रिन युक्त कीटनाशक कैट-फ़ेसिंग कीटों के विरुद्ध प्रभावी होते हैं। ये रसायन मछलियों और रीढ़रहित जलीय जीवों के लिए अत्यधिक विषैले होते हैं और सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि छिड़काव की बौछारें या बहाव सतही पानी तक न पहुंचें। पायरेथ्रॉइड उत्पादों के छिड़काव भी वयस्क कीटों को नियंत्रित करते हैं।

निवारक उपाय

  • रोपण के लिए ऐसे स्थान चुनें जो बिल्ली के चेहरे जैसे लक्षण उत्पन्न करने वाले कीड़ों के शिकारियों को आकर्षित करते हों और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग से बचें.
  • वयस्क बदबूदार कीड़ों (स्टिंक बग) की उपस्थिति के लिए फलदार पेड़ों की छतरी की समय-समय पर जांच करें.
  • जांच के लिए महत्वपूर्ण समय तब होता है जब आसपास के मेज़बान खरपतवार सूखने लगते हैं या पास की मेज़बानों फ़सलों की कटाई होती है.
  • खु़बानी के पेड़ों को सूखी घास के खेतों, खरपतवारों वाले क्षेत्रों या बीहड़ भूमि के पास न लगाएं.
  • मौसम में जल्दी खरपतवार का सही नियंत्रण करें.
  • फलों को तोड़ने के दो सप्ताह के भीतर बाग़ की घास को न काटें क्योंकि यदि ज़मीन पर कीट उपस्थित होंगे तो वे पेड़ की छतरी तक पहुंच जाएंगे.
  • वयस्कों के लिए झाड़कर पकड़ने वाले जालों (स्वीप नेट) का उपयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!