- केला

केला केला

चित्तीदार केला (शुगर स्पॉट)

अन्य

Sugar Spot


संक्षेप में

  • फल के छिलके पर भूरी चित्तियां दिखना.
  • ज़्यादा मुलायम फल गूदा।.
 - केला

केला केला

लक्षण

लक्षण केले के फलों को पेड़ से तोड़े जाने के बाद दिखते हैं। शुरुआत में, केले के छिलके पर छोटे गहरे धब्बे विकसित होते हैं जो समय के साथ बड़े होते जाते हैं। फल के गूदे पर भी भूरे धब्बे देखे जा सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण केलों के प्राकृतिक रूप से पकने की प्रक्रिया है। केले पेड़ से तोड़े जाने के बाद भी पकते रहते हैं। ये धब्बे संकेत देते हैं कि स्टार्च शुगर में बदल गया है। यानी बहुत सारे भूरे धब्बों का अर्थ है कि फल में शुगर का स्तर ऊंचा है। माना जाता है कि भूरा रंग एंज़ाइम (किण्वक) पॉलीफ़ेनोल ऑक्सीडेज़ या टाइरोसीनेज़ की ऑक्सीजन के साथ प्रतिक्रिया के कारण उत्पन्न होता है। हार्मोन एथिलीन फलों के एसिड से प्रतिक्रिया करता है और उन्हें तोड़ देता है, जिससे केला मुलायम पड़ जाता है। प्राकृतिक रूप से भूरा पड़ने और मुलायम होने की प्रक्रिया तब और स्पष्ट हो जाती है जब फलों में कोई रगड़ लग जाती है।

जैविक नियंत्रण

किसी जैविक उपचार की ज़रूरत नहीं है और न ही उपलब्ध है क्योंकि फल विकास की प्रक्रिया प्राकृतिक होती है।

रासायनिक नियंत्रण

किसी रसायनिक उपचार की ज़रूरत नहीं है और न ही उपलब्ध है क्योंकि फल विकास की प्रक्रिया प्राकृतिक होती है।

निवारक उपाय

  • भूरा पड़ने की प्रक्रिया धीमी करने के लिए अपने फलों को अंधेरे और सूखे स्थान में रखें.
  • केलों को एथिलीन उत्पादित करने वाले अन्य फलों, जैसे कि सेब और टमाटरों, के साथ न भंडारित करें.
  • इन्हें ठंडे पर्यावरण, जैसे कि फ्रिज, में रखने की सलाह भी नहीं दी जाती है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!