- अन्य

अन्य अन्य

फल का चटकना (फ्रूट क्रैकिंग)

अन्य

Physiological Disorder


संक्षेप में

  • फलों की सतह पर ठंड से चोट, छिलके का खिंचाव, दानेदार होना, फूल जाना और फल का चटकना दिखाई देते हैं.
  • चटकना तीन अलग-अलग प्रकार का होता है: गोलाकार, बारीक़ या गहरी दरारें।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

फल के बीच में तने की जड़ से फल के बीच की ओर गहरी दरार हो जाती है। फल को विकिरण से नुकसान होता है। फलों पर पाए जाने वाले गोलाकार छल्लों में दरार पड़ जाती है। फल का चटकना (फ्रूट क्रैकिंग) एक क्रमिक प्रक्रिया है, और यह तीन चरणों में होती है: फल के चटकने का प्रारंभिक, मध्य और बाद का चरण। फलों के चटकने के प्रारंभिक चरण में, फल की सतह पर एक भूरे रंग की पट्टी दिखाई देने लगती है और फल की सतह चटक जाती है। फिर, एक दरार दिखाई देती है, जिससे तेल ग्रंथियां नष्ट होने लगती हैं। तेल ग्रंथियां बहुत गंभीर रूप से फट जाती हैं, जिसके बाद फलों की सतह और कोशिकाओं के ऊतकों को गंभीर रूप से नुकसान होता है और फटी हुई सतह की कोशिकाओं के बीच एक बड़ी जगह होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

तापमान, आर्द्रता और रखरखाव के तरीके जैसी प्रतिकूल पर्यावरणीय परिस्थितियों के कारण फलों में तोड़ने के बाद रोग पैदा हो सकते हैं, जबकि फलों को तोड़ने से पहले रोग बोरोन, तांबा और मैंगनीज़ जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के कारण हो सकते हैं। फल के माप और आकार का भी खट्टे फलों के चटकने पर कुछ असर पड़ता है। बड़े फलों में चटकने की संभावना ज़्यादा होती है। खट्टे फल के छिलके पर सिलवटों और फल के चटकने में प्रकंद (रूटस्टॉक) अप्रत्यक्ष रूप से असर डालता है। सूरज की रोशनी की तीव्रता में दैनिक भिन्नताएं फल में सिलवटों की दैनिक दर पर सकारात्मक रूप से असर डालती है। फल की दैनिक सिलवट दर सकारात्मक रूप से प्रकाश की तीव्रता में दैनिक भिन्नता के साथ संबंधित है। फल के गिरने की अवधि से पहले उच्च औसत सापेक्ष आर्द्रता फल में सिलवटों को बढ़ाएगी। आंशिक छिलके में पोषक तत्व की कमी से छिलके में विकासात्मक और चयापचय संबंधी दोष पैदा हो जाएंगे। इसलिए, बाहरी प्रतिकूल वातावरण से प्रोत्साहन के कारण फल में सिलवटें और दरारें पड़ जाएंगी।

जैविक नियंत्रण

महत्वपूर्ण अवधियों से पहले और दौरान अतिरिक्त ध्यान देकर भारी नुकसान को कम करें। पर्याप्त पानी और पोषक तत्व पेड़ों को उपलब्ध कराया जाना चाहिए। मिट्टी की स्थिति में सुधार करने के लिए चिकनी मिट्टी और खाद डालें। पोषक तत्वों की अचानक बढ़ोत्तरी को रोकने के लिए उर्वरकों को धीरे-धीरे डालें और पेड़ों को खिलाने के लिए खाद का उपयोग करें। पलवार का उपयोग करके मिट्टी की नमी को बरकरार रखते हुए वाष्पीकरण को कम करें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो उपाय के तरीकों को जैविक उपचार के साथ एकीकृत रूप से उपयोग करने पर विचार करें। फलों के चटकने को कम करने के लिए कैल्शियम यौगिक या GA3 का नए फलों पर 120 ppm के हिसाब से छिड़काव करें। पोटेशियम उर्वरक, कैल्शियम उर्वरक, और बोरोन उर्वरक का छिड़काव फलों के चटकने को काफ़ी कम कर देता है। फल के शुरुआती विकास के दौरान, फलों के छिलके के विकास को बढ़ावा देने के लिए, छिलके की मोटाई बढ़ाने के लिए, फलों के चटकने के प्रति प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए और फलों के तोड़ने से पहले चटकने को कम करने के लिए पोटेशियम डालें।

निवारक उपाय

  • बार-बार सिंचाई करके नमी को अत्यंत बढ़ाने से बचें.
  • अच्छी गुणवत्ता वाले फल और पैदावार के लिए सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के लक्षणों का दिखने से पहले पता लगाया जाना चाहिए।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!