- धान

धान धान

धान में लौह विषाक्तता

अन्य

Iron Toxicity


संक्षेप में

  • पौधे के ऊतकों में लौह की अधिकता के कारण पत्तियां भूरी (ब्राउनिंग) या कत्थई (ब्रांज़िंग) पड़ जाती हैं.
  • लौह की अधिक मात्रा के कारण जड़ों के खराब स्वास्थ्य के साथ कई आवश्यक पोषक तत्वों का अवशोषण कम हो जाता है।.
 - धान

धान धान

लक्षण

लौह विषाक्तता फ़सल के पूरे वृद्धि चक्र के दौरान हो सकती है। यह विश्व के विभिन्न हिस्सों में निचली भूमि (लोलैंड) धान में पाई जाती है। पौधे के ऊतकों में लौह के अधिक अवशोषण और अत्याधिक संचय के कारण विषाक्त यौगिकों का उत्पादन होता है। इनके कारण क्लोरोफिल नष्ट हो जाता है और फिजियोलॉजिकल प्रक्रियाएं बाधित होतीं हैं जिसके कारण पत्तियां भूरी (ब्राउनिंग) या कत्थई (ब्रांज़िंग) पड़ जाती हैं। जड़ परिवेश में लौह के अधिक एकत्रण के कारण जड़ों का स्वास्थ्य खराब होता है और कई महत्त्वपूर्ण पोषक तत्वों का अवशोषण कम हो जाता है। इस कारण उपज का अच्छा-खासा नुकसान (10-100%) होता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लौह विषाक्तता पौधे की जड़ों के आसपास लौह की अत्याधिक मात्रा के कारण होती है। यह विकार जलमग्न मिट्टी से संबंधित है और मुख्य रूप से निचली भूमि के धान का उत्पादन प्रभावित करता है। जलमग्न मिट्टी लौह की मात्रा बढ़ाने के साथ-साथ इसका पौधे द्वारा ग्रहण करना भी बढ़ा देती है। अम्लीय मिट्टी, मिट्टी का ऑक्सीजनन और उत्पादकता स्तर भी इस पोषक तत्व के संचय और अवशोषण में बड़ी भूमिका निभाते हैं। जलमग्न मिट्टी में पीएच 5.8 से कम वायवीय स्थिति (सामान्य ऑक्सीजन स्तर) और पीएच 6.5 से कम अवायवीय स्थिति (कम ऑक्सीजन स्तर) में लौह विषाक्तता देखी गई है। उपयुक्त प्रबंधन तौर-तरीकों में मिट्टी में चूना मिलाना, मिट्टी की उत्पादकता और फ़सल की कुछ विशेष वृद्धि अवस्थाओं में मिट्टी जल निकास में सुधार करना शामिल है। चूंकि मैंगनीज़ मिट्टी में लौह के साथ प्रतिस्पर्धा करता है, इसलिए इस सूक्ष्म पोषक तत्व को मिलाने से पौधे द्वारा लौह का अवशोषण कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

जैविक नियंत्रण

इस विकार के किसी जैविक नियंत्रण की जानकारी नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

लौह विषाक्तता की समस्या वाली मिट्टी और परिस्थितियों में इस विकार से बचने के लिए उर्वरक का संतुलित (विशेष तौर पर पोटैशियम) इस्तेमाल करना और मिट्टी में चूना मिलाना महत्वपूर्ण है। उर्वरक मिश्रण में मैंगनीज़ मिलाने से भी पौधे द्वारा लौह का अवशोषण कम करने में सहायता मिलती है। अम्लीय मिट्टी में चूना मिलाने की सलाह आम तौर पर दी जाती है। खराब जल निकास वाली भारी मात्रा में लौह और जैविक पदार्थ युक्त मिट्टी में जैविक पदार्थों (खाद, भूसा) के अत्याधिक इस्तेमाल से बचें। नाइट्रोजन उर्वरक के तौर पर अमोनियम सल्फेट (अधिक अम्लीयकरण) के स्थान पर यूरिया (कम अम्लीयकरण) का इस्तेमाल करें।

निवारक उपाय

  • मिट्टी में लौह की अधिक मात्रा के प्रति सहनशील किस्में लगाएं.
  • यदि सीधे बिजाई कर रह हैं तो बीजों का लेपन ऑक्सीकारकों (लौह का प्रभाव ख़त्म करने वाले पदार्थ) से करें.
  • शीर्ष लौह सांद्रण ख़त्म होने तक रोपण विलंबित करें (खेत को पानी से भरने के 10-20 दिन बाद).
  • लौह और जैविक पदार्थ की अधिक मात्रा युक्त खराब जल निकास वाली मिट्टी में बीच-बीच में खेत को पानी से भरें.
  • संचयित लौह को हटाने के लिए जल निकासी, आदर्श रूप से किल्ले निकलने के मध्य में (रोपण/बुवाई के 25-30 दिन बाद) करें.
  • फ़सल कटाई के बाद खेत को जोत दें, यदि संभव हो तो खेत को कई दिनों या सप्ताह के लिए खाली छोड़ दें.
  • अम्लीय मिट्टी में पीएच बढ़ाने के लिए चूना मिलाएं.
  • मैंगनीज़ उर्वरकों का अतिरिक्त इस्तेमाल करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!