- कपास

कपास कपास

तृणनाशक विरंजक

अन्य

Herbicides Photosynthesis Inhibitors


संक्षेप में

  • नसों के बीच पत्तियों का पीलापन.
  • पत्तियों के किनारे पीले हो जाते हैं और ऊपर की ओर मुड़ने लगते हैं.
  • उच्च मात्रा में, 'पीलापन' और ऊतक का मृत होना.
  • अच्छी धूप में ये लक्षण सबसे तेज़ी से विकसित होते हैं।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

लक्षण उपयोग किए गए उत्पाद, लगाने के समय और ख़ुराक पर निर्भर करते हैं। नई पत्तियों की तुलना में पुरानी पत्तियां अधिक प्रभावित होती हैं। पत्तियों पर अंतःशिरा हरिमा हीनता या धब्बेनुमा स्वरूप विकसित हो जाता है, और नसों के बीच ऊतक पीले हो जाते हैं। पत्ती के किनारे पीले हो जाते हैं और फिर इनका ऊपर की ओर मुड़ना शुरू हो सकता है। धीरे-धीरे, पत्तियाँ कुम्हलाने लगती हैं और दो से पांच दिनों के भीतर गिर सकती हैं। ये ऐसे लक्षण हैं जो अच्छी धूप में ज़्यादा बढ़ते हैं ("पेपर बैग" या कागज़ की थैली के समान स्वरूप)। पत्तियों पर उनके तेज़ी से विकसित होने वाले हानिकारक प्रभाव के कारण, उन्हें अक्सर 'विरंजक' कहा जा सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

तृणनाशक PSII अवरोधकों के समूह के कारण नुकसान होता है, जिसमें एट्राज़ीन, ब्रोमॉक्सिनिल, डाययूरोन और फ़्लोमेटुरोन शामिल हैं। वे प्रकाश संश्लेषण को अवरुद्ध करते हैं और कोशिकाओं में निहित हरे रंग के वर्णक को नष्ट करते हैं, जिससे मलिनकिरण पैदा होता है। मिट्टी में खरपतवारों के निकलने से पहले लगाए जाने वाले उत्पाद के रूप इस्तेमाल किए जाने वाले ये तृणनाशक जड़ों द्वारा अवशोषित किये जाते हैं और जल मार्ग से होकर नई टहनियों की ओर बढ़ते हैं। अंत में वे पत्तियों पर जमा हो जाते हैं, विशेष रूप से इनके किनारों में। उद्भव के बाद इस्तेमाल किए जाने वाले उत्पादों के रूप में वे स्थानीय स्तर पर पौधों के ऊतकों को नुकसान पहुंचाते हैं और पौधे के अन्य भागों में प्रवेश नहीं करते हैं। कई प्रकार के खरपतवारों में (उदाहरण के लिए, घास, सरसों, बिच्छू बूटी और जंगली मूली) प्रतिरोधक क्षमता का विकास एक आम समस्या है।

जैविक नियंत्रण

इस क्षति के लिए कोई जैविक नियंत्रण समाधान नहीं हैं। रोकथाम और अच्छी कृषि पद्धतियों द्वारा इससे होने वाले नुकसान को रोका जाना चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो निवारक उपायों और जैविक उपचार के साथ हमेशा एक एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। तृणनाशक छिड़काव की योजना बनाने से पहले, सुनिश्चित करें कि आप जानते हैं कि आप किस प्रकार के खरपतवार से जूझ रहे हैं (मूल रूप से चौड़ी पत्ती बनाम घास) और इस उद्देश्य के लिए कोई अन्य विधि बेहतर नहीं है। तृणनाशक का चयन सावधानीपूर्वक करें, लेबल को ध्यान से पढ़ें, और निर्देशों और ख़ुराकों का पालन करें।

निवारक उपाय

  • ठीक से पता करें कि आप किस प्रकार के खरपतवार से जूझ रहे हैं (मूल रूप से चौड़ी पत्ती की पतवार या घासनुमा पतवार).
  • सावधानी से उस तृणनाशक का चयन करें जो आपके उद्देश्य के लिए सबसे उपयुक्त है.
  • लेबल को ध्यान से पढ़ें और निर्देशों और ख़ुराकों का पालन करें.
  • एक अलग तृणनाशक के साथ सम्पर्क-विकार से बचने के लिए उपयोग के बाद छिड़काव हेतु उपयोग किये डिब्बे को हमेशा साफ़ करें.
  • अन्य खेतों में बहाव को रोकने के लिए ऐसे समय पर छिड़काव करने से बचें जब तेज़ हवा चल रही हो.
  • छिड़काव के लिए ऐसी छिड़काव टोटियों का इस्तेमाल करें जो बहाव को कम से कम रखें और खरपतवार पर ही निशाना साधें.
  • परिणामों की निगरानी के लिए चराई और घास के खेतों में तृणनाशकों का परीक्षण करें.
  • मौसम के पूर्वानुमान को ध्यान में रखें और बारिश की स्थिति में छिड़काव न करें.
  • तृणनाशकों के इस्तेमाल की दिनांक, उत्पाद, खेत की जगह, और मौसम की स्थिति के साथ गतिविधियों का एक ब्यौरा रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!