- कपास

कपास कपास

कपास की पत्ती का लाल होना

अन्य

Leaf Reddening


संक्षेप में

  • पहले पत्तियों के किनारे लाल होते हैं.
  • बाद में, पूरी पत्ती बदरंग हो जाती है.
  • तनों का मुरझाना तथा लाल पड़ना.
  • पत्तियों और फलों का गिरना.
  • विकास बाधित।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

पत्तियों का वास्तविक लाल होना, कारण और फसल के विकास के चरण के आधार पर थोड़ा भिन्न हो सकता है। अधिकांश मामलों में, पत्तियों के किनारे पहले लाल हो जाते हैं और बाद में बदरंगपन बाकी हिस्सों में फैल जाता है। अन्य लक्षणों में कुम्हलाना, तनों का लाल होना, खराब बीजकोष विकास या बीजकोष विकास न होना, पत्तियों और फलों का झड़ना और पौधों का अवरुद्ध विकास शामिल हो सकते हैं। जीर्णता के दौरान, बदरंग होना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जिसे आमतौर पर पूरे खेत में देखा जा सकता है। नाइट्रोजन की कमी के अलावा, पत्ती के लाल होने के कारण सीधी धूप का ज़्यादा पड़ना, ठंडे तापमान और हवा से हुई हानि भी हो सकता है। ऐसे मामले में, बदरंग होना पूरे खेत के बजाय अकेली पत्तियों को प्रभावित करता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों के कारण कई अजैविक कारक हो सकते हैं, जैसे पानी, निरंतर तापमान के कारण बलाघात, या मिट्टी की ख़राब उर्वरता। कुछ किस्में या संकर दूसरों की तुलना में अधिक संवेदनशील होते हैं। लालिमा एंथोसायनिन नामक लाल वर्णक में वृद्धि और पत्तियों में हरे रंग के वर्णक पर्णहरित में कमी के कारण होता है। एक कारण, नीचे के भाग का परिगलन हो सकता है, जो पौधे में सक्रिय रूप से पानी और पोषक तत्वों को लेने की क्षमता को कम कर देता है। जीर्णता के दौरान, यह प्रक्रिया स्वाभाविक है और उपज पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है। मौसम के शुरुआती कारणों में नाइट्रोजन, फ़ॉस्फ़ोरस और पोटेशियम (लगता नहीं कि मैग्नीशियम शामिल है) की कमी हो सकती है। इसके अलावा, सूरज की रोशनी, हवा और ठंडे तापमान की अधिकता भी बदरंगपन को तेज़ी से बढ़ा सकता है।

जैविक नियंत्रण

बलाघात और विकास के चरणों के आधार पर, जैविक उर्वरकों का इस्तेमाल पौधों के लिए फ़ायदेमंद हो सकते हैं। यदि पत्ती का लाल होना मौसम में देर से शुरू होता है या यदि भौतिक कारकों द्वारा प्रक्रिया शुरू हो जाती है, तो जैविक नियंत्रण आवश्यक नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा निवारक उपायों और जैविक उपचार के साथ एक एकीकृत दृष्टिकोण को अपनायें। कपास की फसलों में पत्ती को लाल होने से रोकने के लिए कोई रासायनिक नियंत्रण उपलब्ध नहीं है। पशु खाद की अच्छी आपूर्ति, एक विवेकपूर्ण सिंचाई कार्यक्रम, और एक संतुलित उर्वरण समस्या से बचाव में मदद करेगा। यदि मौसम की शुरुआत हो रही है, तो पोषक तत्वों की उचित आपूर्ति से समस्या को हल करने में मदद मिल सकती है। यदि लक्षण पहले बीजकोष खुलने के समय के आसपास शुरू होते हैं, तो कोई उपाय करने की आवश्यकता नहीं है।

निवारक उपाय

  • फल आने के दौरान उच्च मिट्टी के तापमान से बचने के लिए अनुशंसित समय पर पौधे लगाएं.
  • पौधों के बीच सबसे अच्छे फ़ासले की पड़ताल करें.
  • अजैविक बलाघात के लिए प्रतिरोधी कपास की किस्मों का उपयोग करें.
  • मिट्टी को पर्याप्त खाद अवश्य दें.
  • प्रत्यक्ष पवन क्षति जैसी चीज़ों से होने वाले दैहिक बलाघात से फ़सलों को बचाएं.
  • पौधे की ज़रूरतों के अनुसार विवेकपूर्ण सिंचाई की योजना बनाएं.
  • मिट्टी में पोषक तत्वों की निगरानी करें और संतुलित पोषक तत्व प्रबंधन व्यवस्थाओं को लागू करें.
  • फसल काटने के बाद मिट्टी को मिलाने के लिए गहरी जुताई करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!