- कपास

कपास कपास

तृणनाशकों के कारण झुलसना

अन्य

Herbicides Cell Membrane Disruptors


संक्षेप में

  • जलमय पत्ती धब्बे.
  • पत्तियों का मुरझाना और भूरा पड़ना।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

लक्षण प्रयोग किए गए तृणनाशक, इस्तेमाल के समय और मात्रा पर निर्भर करते हैं। आम तौर पर पत्तियों पर जलमय धब्बे दिखते हैं जो कि बाद में सूख जाते हैं। जब निकलने से पहले तृणनाशकों का इस्तेमाल किया जाता है, तो ऊतकों का झुलसना या बीजांकुर आविर्भाव विफलता देखी जाती है। निकलने के बाद इस्तेमाल करने पर, एक धब्बेदार स्वरूप में झुलसन पैदा कर सकते हैं। इसे गलती से पैराक्वैट क्षति माना जा सकता है लेकिन इसमें रंग कत्थई नहीं पड़ता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण पीपीओ इन्हीबिटर और डाइफ़िनाइल ईथर परिवार के तृणनाशक, जैसे कि फ़्लुमियोक्साज़िन, फ़ोमेसाफ़ेन, लैक्टोफ़ेन, कारफ़ेंट्राज़ोन, एसिफ़्लोरफ़ेन, होते हैं। ये क्लोरोफ़िल का उत्पादन बाधित करके कोशिका झिल्ली तोड़ देते हैं। धूप और मौसम परिस्थितियों पर निर्भर करते हुए, पत्तियों पर लक्षण 1-3 दिन में दिखने लगते हैं। धूप से लक्षण और मुखर होते हैं और तेज़ धूप वाले गर्म दिनों में और बदतर हो जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

इस स्थिति के लिए कोई जैविक उपचार उपलब्ध नहीं है। निवारक उपाय और अच्छे खेतीबाड़ी तौर-तरीके पहले पहल नुकसान कम करने में अहम भूमिका निभाते हैं। संदिग्ध ओवरडोज़ के मामले में पौधों को अच्छी तरह धोएं और खंगालें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। तृणनाशक का इस्तेमाल करने से पहले ये सुनिश्चित करें कि आप किस प्रकार के खरपतवार से निपट रहे हैं (मूलतः चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार या विभिन्न घासें)। फिर, सर्वश्रेष्ठ उपलब्ध तरीका चुनें। सावधानीपूर्वक तृणनाशक चुनें और लेबल को ध्यान से पढ़कर मात्रा निर्देशों का पालन करें।

निवारक उपाय

  • यह सुनिश्चित करें कि आप किस प्रकार के खरपतवार का मुकाबला कर रहे हैं (मूलतः चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार या विभिन्न घासें).
  • सावधानीपूर्वक वह तृणनाशक चुनें जो आपका उद्देश्य पूरा करता है.
  • लेबल को ध्यान से पढ़ें और मात्रा निर्देशों का पालन करें.
  • इस्तेमाल के बाद स्प्रे कंटेनर की सफ़ाई करें ताकि पहले इस्तेमाल किए गए किसी तृणनाशक से होने वाले संदूषण से बचा जा सके.
  • तेज़ हवाओं के मौसम में छिड़काव से बचें ताकि यह हवा से अन्य खेतों में न पहुंच पाए.
  • खरपतवार को बेहतर तरीके से लक्षित और बहाव कम करने वाले नोज़ल का इस्तेमाल करें.
  • परिणाम की पड़ताल के लिए तृणनाशक का पहले चारागाहों और घास के मैदानों पर परीक्षण करें.
  • मौसम की भविष्यवाणी पर नज़र रखें और तेज़ धूप और गर्म मौसम में छिड़काव न करें.
  • सभी गतिविधियां दर्ज करें जिसमें इस्तेमाल तिथि, उत्पादों, खेत का स्थान और मौसम परिस्थितियां शामिल रहें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!