टमाटर का पीला पर्ण कुंचन वायरस (टी.वाय.एल.सी.वी.)

  • लक्षण

  • ट्रिगर

  • जैविक नियंत्रण

  • रासायनिक नियंत्रण

  • निवारक उपाय

टमाटर का पीला पर्ण कुंचन वायरस (टी.वाय.एल.सी.वी.)

TYLCV

वाइरस


संक्षेप में

  • मोटे और झुर्रीदार पत्ते, साथ ही पत्ती के किनारों पर अंतःशिरा हरितहीनता साफ़ दिखाई देती है.
  • पत्तियों के हरितहीन किनारे ऊपर और अंदर की तरफ़ मुड़ जाते हैं.
  • फलों की संख्या कम हो जाती है, लेकिन सतह पर कोई ध्यान देने योग्य लक्षण दिखाई नहीं देता है।.

होस्ट्स:

टमाटर

लक्षण

यदि यह अंकुरित अवस्था में पौधों को संक्रमित करता है, तो टी.वाय.एल.सी.वी. पौधे की ताज़ा पत्तियों तथा शाखाओं में विकास अवरुद्ध कर देता है, जिसकी वजह से कभी-कभी पौधे की झाड़ीनुमा वृद्धि होने लगती है। पुराने पौधों में, संक्रमण के परिणाम से पौधे अत्यधिक शाखाओं में, मोटे और झुर्रीदार पत्तियों वाले हो जाते हैं, और किनारों पर स्पष्ट रूप से दिखाई देने वाली अंतःशिरा हरितहीनता हो जाती है। बीमारी के बाद के चरणों में, वे एक चमड़े जैसी बनावट ले लेते हैं और उनके हरितहीन किनारे ऊपर और भीतर की तरफ़ घूमे हुए होते हैं। यदि संक्रमण फूलों के बनने से पहले होता है, तो फलों की संख्या काफी कम हो जाती है, भले ही उनकी सतह पर कोई विशेष लक्षण न हो।

ट्रिगर

टी.वाय.एल.सी.वी. बीजों से जुड़ा नहीं है और यंत्रवत् प्रसारित नहीं होता है। यह बेमिसिया टेबेकि प्रजातियों वाली सफे़द पंखों वाली मक्खियों से फैलता है। ये सफे़द पंख वाली मक्खियाँ कई पौधों की पत्ती की निचली सतह पर अपना भोजन करती हैं और छोटे मुलायम पौधों द्वारा आकर्षित होती हैं। पूरा संक्रमण चक्र लगभग 24 घंटे में हो सकता है और उच्च तापमान के साथ सूखे मौसम में अत्यधिक होता है।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजिये, हम टी.वाय.एल.सी.वी. के खिलाफ कोई जैविक नियंत्रण उपचार नहीं जानते।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ बचाव के उपाय भी साथ में करें। पायरेथ्रोइड परिवार के कीटाणुनाशकों को मिट्टी में डालकर या छिड़ककर अंकुरण काल में इनकी आबादी को बढ़ने से रोका जा सकता है। हालाँकि, उनका अधिक उपयोग सफे़द मखियों की आबादी में प्रतिरोध विकास को बढ़ावा दे सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी या सहनशील किस्मों का उपयोग करें.
  • सफे़द मक्खियों की सर्वोच्च जनसंख्या से बचने के लिए जल्द रोपाई करें.
  • स्क्वाश तथा खीरे जैसे गैर-संवेदनशील पौधों की कतारों के साथ अन्तःफसल लगाएं.
  • क्यारियों को ढकने के लिए और सफेद मक्खियों को पौधों तक पहुंचने से रोकने के लिए जाल का उपयोग करें.
  • अपनी फसलों के समीप वैकल्पिक धारकों के पौधों को रोपने से बचें.
  • सफे़द मक्खियों के जीवन चक्र को तोड़ने के लिए क्यारियों या खेतों को घास फूंस से ढक कर रखें।कीटों को बड़ी संख्या में पकड़ने के लिए चिपचिपे पीले प्लास्टिक के जाल का उपयोग करें.
  • क्षेत्र की निगरानी करें, रोगग्रस्त पौधों को हाथ से हटाएं और उन्हें खेतों से दूर दबा दें.
  • टमाटर के करीब वैकल्पिक परपोषी पौधों को उगाने से बचें.
  • मैदान में और आसपास की खरपतवार ढूँढें और उन्हें नष्ट करें.
  • फसल की कटाई के बाद सभी पौधों के मलबे को जुताई कर गहराई में गाड़ दें या उन्हें जला दें.
  • गैर-संवेदनशील फसलों के साथ फसल चक्रीकरण अपनाएं।.