- अन्य

अन्य अन्य

फायर ब्लाइट

बैक्टीरिया

Erwinia amylovora


संक्षेप में

  • पत्तियां और फूल मुरझाने लगते हैं और भूरे या काले पड़ जाते हैं.
  • बढ़ती हुईं टहनियां भी हरी धूसर पड़ जाती हैं, मुरझाकर विकृत हो जाती हैं और शेफर्ड्स क्रूक (चरवाहे के मुड़े हुए डंडे की तरह) की तरह दिखने लगती हैं.
  • भयंकर प्रकोप होने पर पेड़ आग में झुलसे से दिखते हैं.
  • अंदर की लकड़ी लाल भूरे रंग की हो जाती है.
  • गर्म और नमी वाले मौसम में पेड़ के संक्रमित हिस्से से चिपचिपे सफ़ेद तरल का स्राव हो सकता है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

फायर ब्लाइट में पत्तियों, फूलों, फलों और टहनियों पर कई विशेष लक्षण नज़र आते हैं। पत्तियां और फूल कुम्हलाने लगते हैं और शुरुआत में हरे धूसर और बाद में भूरे या काले पड़ जाते हैं। पूरे मौसम के दौरान वे शाखाओं पर ही लगे रहते हैं। बढ़ती नई टहनियां भी हरी धूसर पड़ जाती हैं और मुरझाकर मुड़ जाती हैं और शेफर्ड्स क्रूक (चरवाहे का मुड़ा हुआ डंडा) की तरह दिखने लगती हैं। रोग बढ़ने पर और ज़्यादा नई टहनियां सिकुड़कर मर जाती हैं। गंभीर संक्रमण होने पर पेड़ आग में झुलसे से नज़र आते हैं, इसी कारण रोग का यह नाम पड़ा है। शाखाओं पर फोड़े बन जाते हैं, जिससे वे गहरे रंग की दिखती हैं जबकि उनकी छाल धंसी और चटकी हुई होती है। मृत छाल के नीचे लकड़ी लाल भूरे रंग की हो जाती है। गर्म, नम मौसम में पौधे के संक्रमित हिस्सों से चिपचिपे सफ़ेद तरल का स्राव हो सकता है। अगर उपचार न किया जाए तो संक्रमण जड़ों तक पहुंच जाता है और पूरा पेड़ मर सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फायर ब्लाइट का कारण जीवाणु इर्विनिया अमाइलोवोरा है जो सेब, नाशपाती और इसी परिवार के सजावटी पौधों को संक्रमित करता है। गुठली वाले फल जैसे कि आलूबुखारा (प्लम), चेरी, आड़ू (पीच) और शफ़तालू (नेक्टारिंस) पर इस रोग का असर नहीं होता है। क्षति बसंत से शरद ऋतु तक दिखाई देती है। जीवाणु टहनियों, शाखाओं या तनों पर बने नासूरों में सर्दियां बिताता है। बसंत में अनुकूल परिस्थितियों में यह अंदरुनी हिस्से में दोबारा विकास शुरू करता है जिससे उनका रंग भूरा पड़ जाता है। इससे पानी और पोषक तत्वों का परिवहन बाधित हो जाता है और इस कारण नई टहनियों के सिरे मुरझा जाते हैं और अंत में नीचे की ओर मुड़कर लटक जाते हैं। बारिश की बौछारों या कीटों से जीवाणु पास के फूलों या तेज़ी से बढ़ती टहनियों पर पहुंचता है। अधिक उर्वरक मिट्टी और मिट्टी में अधिक नमी से भी रोग बढ़ता है। गर्म मौसम या घाव भी संक्रमण को बढ़ावा देते हैं।

जैविक नियंत्रण

बोर्डो मिश्रण या अन्य कॉपर उत्पादों (लगभग 0.5%) के घोल का फूल आने के दौरान कई बार इस्तेमाल करके संक्रमण कम किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल मौसम के अनुसार सही समय पर करना चाहिए। ज़्यादा नमी होने पर चार से पांच दिन के अंतराल पर इस्तेमाल करें। ध्यान रखें कि कुछ कॉपर उत्पादों से फल की सतह पर निशान पड़ सकते हैं। स्ट्रेप्टोमाइसिस लिडिकस युक्त उत्पादों का इस्तेमाल करने से भी जीवाणु का फैलाव घटता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। फूल आने के दौरान फायर ब्लाइट पर नियंत्रण के लिए कॉपर आधारित उत्पादों का इस्तेमाल किया जा सकता है। परंतु, कई बार इस्तेमाल करने पर भी प्रभावी नियंत्रण नहीं हो पाता है। काट-छांट करने के बाद औज़ारों को 10% ब्लीच घोल या किसी एंटी-बैक्टीरियल क्लीनर से रोगाणुरहित करना चाहिए।

निवारक उपाय

  • अगर उपलब्ध हों तो प्रतिरोधी किस्में रोपित करें.
  • धीरे-धीरे बढ़ने वाली वे किस्में चुनें जिन पर उर्वरक के इस्तेमाल का ज़्यादा असर नहीं पड़ता.
  • रोग के संकेतों के लिए बाग की लगातार निगरानी करें.
  • सर्दियां खत्म होने से पहले संक्रमित शाखाओं को काटकर उन्हें जलाकर नष्ट करना चाहिए.
  • उपयोग के बाद कटाई के औज़ारों को एक कीटाणुनाशक से साफ़ करना चाहिए.
  • खेत में कार्य करते समय पेड़ों को नुकसान न पहुंचाएं.
  • उचित काट-छांट करके छतरी खुली-खुली रखें.
  • पेड़ों को ज़रूरत से ज़्यादा नाइट्रोजन न दें.
  • खेत के आसपास अन्य मेज़बान पौधे न लगाएं.
  • गंभीर संक्रमण होने पर पूरा पेड़ ठूंठ सहित उखाड़ फेंकें.
  • फूल आने के दौरान पेड़ों में पानी न दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!