- धान

धान धान

चावल की पत्ती पर संकरे कत्थई धब्बे

फफूंद

Sphaerulina oryzina


संक्षेप में

  • इस रोग की विशेषता पत्ती के अक्ष में बढ़ने वाले रेखीय धब्बे हैं.
  • पत्ती के खोल के लगातार बदरंग होने को “नेट ब्लॉच” कहा जाता है.
  • धब्बे विकास के बाद के चरणों में, पुष्पीकरण की अवस्था के ठीक पहले दिखाई देते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

पत्तियों पर रेखीय घाव विकसित होते हैं, जो 2-10 मिमी लम्बे तथा आम तौर पर 1-1.5 मिमी से अधिक चौड़े नहीं होते। बढ़त की अक्ष पत्ती के समांतर होती है। घावों में गहरा कत्थई केंद्र होता है, जो किनारों तक पहुँचने तक धुंधला होने लगता है। छिलकों पर घाव पत्तियों जैसे ही होते हैं, जबकि भूसे तथा डंठल पर घाव छोटे होते हैं और तिरछे बढ़ते हैं। प्रतिरोधक प्रजातियों में संवेदनशील प्रजातियों की अपेक्षा घाव अधिक संकरे, छोटे और गहरे होते हैं। धब्बे विकास की बाद की अवस्थाओं में, पुष्पीकरण के ठीक पहले दिखाई देते हैं। इस रोग के कारण दाने जल्द पक सकते हैं और बीज या दाने एक बैंगनी-भूरे रंग से बदरंग हो जाते हैं। पौधों का गिरना भी देखा गया है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह रोग आम तौर पर पोटैशियम की कमी वाली मिट्टी में तथा 25-28 डिग्री से. तापमान वाले क्षेत्रों में होता है। यह चावल की फसल के विकास के बाद के चरणों में, दाने निकलने के चरण में दिखाई देता है। वैकल्पिक धारक कवक को जीवित रहने में सहायक होते हैं तथा चावल के नए पौधों को संक्रमित करते हैं। पौधे पुष्प निकलने के चरण के बाद से इसके प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं और पौधों के विकसित होने के साथ हानि बढ़ती जाती है।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजिएगा, हम अभी स्फ़ेरुलिना ओरिज़िना के विरुद्ध कोई वैकल्पिक उपचार नहीं जानते हैं। यदि आप कुछ जानते हों जिससे इस रोग का सामना करने में मदद मिलती हो, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपकी राय का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। यदि खेतों में संकरे कत्थई धब्बों का ख़तरा हो, तो पौधे के विकास के विभिन्न चरणों में प्रोपिकोनाज़ोल का छिड़काव करना चाहिए।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक प्रजातियों का प्रयोग करें.
  • खेत तथा आसपास के क्षेत्र से वैकल्पिक धारकों को हटा दें.
  • संतुलित पोषक तत्वों का प्रयोग करें.
  • ध्यान रखें कि पर्याप्त पोटैशियम का प्रयोग किया गया हो।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!