- कपास

कपास कपास

धब्बेदार बीजकोष कीट

कीट

Earias vittella


संक्षेप में

  • फूल आने से पहले मुख्य ऊपरी टहनियों का कुम्हलाना.
  • कपास की पहली कलियों और कोषों का झड़ना.
  • कोषों में छेद और अंदर सड़न.
  • कपास के कोष धीरे-धीरे खाली हो सकते हैं।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

लार्वा मुख्य रूप से बीजकोषों पर हमला करते हैं, लेकिन अगर बीजकोष उपलब्ध न हों, तो वे पहली कलियों, नई टहनियों और फूलों को भी खा सकते हैं। यदि वानस्पतिक चरण के दौरान संक्रमण होता है, तो इल्लियां नई टहनियों की मुख्य ऊपरी कलियों को खाते हुए नीचे की ओर बढ़ जाती हैं। इससे मुख्य ऊपरी टहनियां फूल खिलने से पहले सूखने और झड़ने लगती हैं। यदि मुख्य तना प्रभावित हो, तो पूरा पौधा गिर सकता है। यदि बाद के विकास चरण के दौरान हमला होता है, तो लार्वा आधार से खोदी गई सुरंगों से प्रवेश करके फूलों की कलियों और बीजकोषों को खाते हैं। क्षतिग्रस्त कलियां कभी-कभी समय से पहले फैल जाती हैं, जिससे तथाकथित 'फ़्लेयर्ड' नई कलियों की स्थिति पैदा हो जाती है। पौधों के ऊतकों को नुकसान और कीटमल की उपस्थिति के कारण फफूंद और जीवाणु वहां बस्ती बना लेते हैं, जो लक्षणों को बिगाड़ देता है। पौधे जितने छोटे होते हैं, नुकसान उतना ज़्यादा होता है। इस कीट के वैकल्पिक धारकों में गुड़हल, भिंडी और अन्य फ़सलें शामिल हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

नुकसान धब्बेदार बीजकोष वाली इल्ली, ईयरिएस विटेला के कारण होता है, जो भारत के दक्षिणी क्षेत्रों में आम कीट है। पतंगे अधिकतर हरी विशेषताओं के साथ फीके रंग के, लगभग 2 सेंटीमीटर लंबे होते हैं, और फूलों पर या प्रकाश स्रोतों के करीब पाए जा सकते हैं। अग्रपंख चमकदार हरी धारियों से युक्त फीके रंग के होते हैं। पीछे के पंख बीच-बीच में फीके भूरे-स्लेटी रंग के साथ रेशमी सफ़ेद होते हैं। अंडे नीले रंग के होते हैं और युवा टहनियों, पत्तियों और कलियों पर एक-एक करके बिछे होते हैं। युवा लार्वा धूसर से हरे रंग की विशेषताओं के साथ हल्के भूरे होते हैं, और मध्य पृष्ठीय रेखा पर फीके रंग के होते हैं। पूरी तरह से विकसित लार्वा 1.8 सेंटीमीटर तक लंबे होते हैं। छोटे-छोटे कांटें, जो हाथ के लेंस के नीचे देखे जा सकते हैं, उनके शरीर की पूरी सतह को ढके हुए होते हैं। जैसे-जैसे वे परिपक्वता तक पहुँचते हैं, वे पत्तियों या पौधों के गिरे हुए हिस्सों के साथ जुड़े रेशमी सुरक्षा कवच में प्यूपीकरण करते हैं। उष्णकटिबंधीय परिस्थितियों में, एक पीढ़ी 20-25 दिनों के भीतर पूरी तैयार हो जाती है। कम तापमान इस प्रक्रिया में देरी कर सकता है और इसमें दो महीने का समय लग सकता है।

जैविक नियंत्रण

इस कीट के प्रबंधन में अंडे या छोटी इल्लियों की तलाश महत्वपूर्ण है। ब्रेकोनिड, स्केलियोनिड और ट्राइकोग्रामाटिड परिवार के कुछ परजीवी कीट जैविक नियंत्रक विधि के रूप में उपयोग किए जा सकते हैं। निम्न क्रम से शिकारी कीटों को भी आज़माएँ: कोलोप्टेरा, हाइमनोप्टेरा, हेमिप्टेरा और न्यूरोप्टेरा। इन प्रजातियों को बढ़ावा दें (यहां तक कि उन्हें खेत में डालें), और व्यापक पैमाने पर कीटनाशकों के उपयोग से बचें। आप अति आबादी को नियंत्रित करने के लिए बैसिलस थुरिंजियेन्सिस युक्त जैविक कीटनाशकों का छिड़काव कर सकते हैं। नीम के बीज का अर्क (NSKE) 5% या 5 मिलीलीटर प्रति लीटर के हिसाब से नीम तेल (1500 मिलीग्राम प्रति लीटर) का भी उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। उपचार की सलाह तब दी जाती है जब शुरुआती फूल आने के दौरान प्रति 100 पौधों में 10 अंडे या 5 छोटे कीड़े मौजूद होते हैं। जैसे-जैसे लार्वा कीटनाशक उपचारों के प्रति सहनशील हो रहे हैं, अंडे और युवा इल्लियों की तलाश करना ज़रूरी हो गया है। अंडे के चरण के दौरान उपचार करने की अनुशंसा की जाती है। क्लोरेंट्रानिलिप्रोले, इमामेक्टिन बेंज़ोएट, फ़्लुबेंडियामाइड, मेथोमायल या एस्फ़ेनवेलरेट वाले कीटनाशकों को डाला जा सकता है। कम मूल्य की फसलों के लिए रासायनिक उपचार व्यवहार्य नहीं होता है।

निवारक उपाय

  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हों, तो पौधों की प्रतिरोधक क़िस्में लगाएं.
  • अति आबादी से बचने के लिए जल्दी रोपण करें.
  • पौधों के बीच पर्याप्त दूरी छोड़ें.
  • जीवन चक्र को तोड़ने के लिए खेतों की सीमाओं पर ऐसे क्षेत्र छोड़ें जिनकी जुताई नहीं की गई हो.
  • गुड़हल और भिंडी जैसी जाल फ़सल का रोपण करें.
  • एकल कृषि से बचें और लाभकारी पौधों के साथ अंतर-फसल का इस्तेमाल करें.
  • लार्वा और धब्बेदार बीजकोष वाले कीट के अंडों के लिए नियमित रूप से कपास के खेत की निगरानी करें.
  • पर्याप्त उर्वरण रखें.
  • उन रीतियों को बढ़ावा दें जिनसे फ़सल जल्द काटी जा सके.
  • प्रत्येक फसल चक्र के बाद सभी फसल अवशेषों को साफ़ करें.
  • शिकारियों और अन्य कारकों के लिए प्यूपा को उजागर करने हेतु गहराई से हल चलाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!