- कपास

कपास कपास

माइरोथिसियम पत्तियों के धब्बे

फफूंद

Myrothecium roridum


संक्षेप में

  • तने और क्राउन (जहां तना जड़ से निकलता है) की सड़न.
  • पत्तियों पर, किनारों के समीप हल्के कत्थई से काले धब्बे दिखाई देते हैं.
  • घावों के केंद्र गिर जाते हैं -गोली लगने के छेद जैसे।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

लक्षणों की विशेषता तने और क्राउन (जहां तना जड़ से निकलता है) की सड़न तथा पत्तियों पर कत्थई संकेंद्रित धब्बों की उपस्थिति है। उच्च आर्द्रता पर, घावों पर उभरी, काली बनावट और सफे़द गुच्छे बन सकते हैं, जिससे इन्हें एक विशिष्ट रूप मिलता है। उद्यानीय फसलों में, लक्षण आमतौर पर क्राउन तथा समीपवर्ती पत्तियों के डंठलों पर कत्थई मुलायम सड़न के रूप में दिखते हैं। जैसे-जैसे घाव तने पर फैलते हैं, छोटे सफ़ेद गुच्छे प्रभावित ऊतकों पर नज़र आने लगते हैं। धीरे-धीरे ये धब्बे स्पष्ट गोलाकार आकृति लेने लगते हैं, और इनके बीच मे स्पष्ट रूप से एक संकेंद्रित छल्ला दिखने लगता है। बाद में, पुराने घाव बढ़ कर आपस में मिल जाते हैं और सूक्ष्म सफे़द छींटों से ढक जाते हैं। जैसे-जैसे ये सूखते जाते हैं, घाव के केंद्र कागज़ जैसे और सफे़द होने लगते हैं और अंततः गिर जाते हैं और पत्तियों में अनियमित छिद्र छोड़ जाते हैं। रोग की बाद की अवस्था मे पूरा पौधा ही गिर सकता है, किंतु फल विरले ही प्रभावित होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण कवक माइरोथिसियम रोरिडम, एक रोगाणु जो आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण कई फसलों और सजावटी पौधों पर नियमित अंतराल में क्राउन और तनों की सड़न पैदा करता है। यह रोग अनेक प्रकार से फैलता है, उदाहरण के लिए रोपाई के दौरान गलत प्रक्रियाओं, ऊपरी सिंचाई, और मशीन या कीटों के कारण हुए घावों से। क्षतिग्रस्त ऊतक एक प्रवेश बिंदु बन जाते हैं जिससे कवक पौधे को संक्रमित करता है। रोग का प्रकोप तथा लक्षणों की तीव्रता, दोनों ही ऊष्ण, नम मौसम तथा उच्च आर्द्रता में बढ़ जाते हैं। अत्यधिक उर्वरीकरण से अधिक पत्तियों के पैदा होने से रोग का अधिक प्रकोप होता है।

जैविक नियंत्रण

आज तक माइरोथिसियम पत्तियों के धब्बे के लिए कोई जैविक नियंत्रण ज्ञात नहीं है। यदि आप इस कवक के उपचार के बारे में कोई उपाय जानते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा निरोधात्मक उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हों, के समन्वित दृष्टिकोण पर विचार करें। लक्षणों के सबसे पहले दिखाई देते ही, मेंकोज़ेब या कॉपर ऑक्सीक्लोराइड का 2 किलोग्राम/हेक्टेयर के हिसाब से छिड़काव करें और उपचार को 15 दिनों के अंतराल पर दो से तीन बार दोहराएं। यदि संक्रमण मौसम में देरी से हुआ हो, तो फ़सल काटने से पूर्व के अंतराल का ध्यान रखें।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो प्रतिरोधी प्रजातियाँ प्राप्त करें.
  • अत्यधिक उर्वरीकरण से बचें तथा मौसम के दौरान अंशों में प्रयोग करें.
  • खेतों में कार्य करते समय पौधों को क्षति पहुँचाने से बचें.
  • सिंचाई का सावधानीपूर्वक समय निर्धारित करते हुए पत्तियों के गीले रहने का समय न्यूनतम रखें।।खेतों में कार्य करने के बाद सभी उपकरणों को साफ़ करने तथा संक्रमणमुक्त करने का ध्यान रखें.
  • पैकिंग करते समय उत्पाद का विशेष ध्यान रखें क्योंकि बुरी आदतों से घाव होने की संभावना हो जाती है.
  • पौधों के संक्रमित अवशेषों को हटा कर नष्ट कर दें.
  • एक ही फ़सल की बुवाई से बचें क्योंकि यह रोग के प्रसार के लिए आदर्श होती है.
  • अपनी फसलों के लिए सर्वोत्तम पीएच प्राप्त करने के लिए खेतों में चूने का प्रयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!