- आलू

आलू आलू

आलू में तने की सड़ांध (ब्लैकलेग)

बैक्टीरिया

Pectobacterium atrosepticum


संक्षेप में

  • तने के आधार पर पानी से भीगे हुए घाव, जो बाद में पौधों के ऊपरी हिस्सों तक पहुँच जाते हैं.
  • तने के आंतरिक ऊतक सड़कर काले रंग के हो जाते हैं, जो पानी और पोषक तत्वों की पर्याप्त आपूर्ति में बाधा डालने लगता है.
  • प्रभावित तने पर पत्तियां सूखने और हरितहीन होने लगती हैं और उनके किनारे मुड़ जाते हैं।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

ब्लैकलेग आमतौर पर पहले, तने के आधार पर पानी से लथपथ घावों के रूप में दिखता है। बाद में घाव जुड़ जाते हैं और गहरे रंग के होकर तने के ऊपर चढ़ते जाते हैं। तने के आंतरिक ऊतक सड़कर काले रंग के हो जाते हैं, जो पानी और पोषक तत्वों की पर्याप्त आपूर्ति में बाधा डालने लगता है। प्रभावित तने पर पत्तियां सूखने और हरितहीन होने लगती हैं और उनके किनारे मुड़ जाते हैं। पौधे गिर सकते हैं या आसानी से उन्हें मिट्टी से निकाला जा सकता है। आमतौर पर, स्टोलोन या भूस्तारी (ज़मीन से लगा हुआ या उससे नीचे तने का हिस्सा) से जुड़ने के स्थान पर कंद काले पड़ने और सड़ने लगते हैं। जैसे-जैसे रोग फैलता है, या तो पूरा कंद या केवल उसका भीतरी केंद्र क्षय हो जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

रोग का विकास आम तौर पर कंद के निकलने से कुछ पहले या तुरंत बाद बीज कंद की सड़ांध से शुरू होता है। नमी की स्थिति सड़ांध के विकास को बढ़ावा देती है। उच्च मिट्टी संघनन और जल के एकत्रीकरण वाले स्थान विशेष रूप से ब्लेकलेग के प्रति संवेदनशील होते हैं। जीवाणु ज़मीन के पास सड़ी हुई जड़ों या मृत पत्तियों के माध्यम से पौधे में प्रवेश करता है। कीड़ों या औज़ारों से पौधों के नुकसान के कारण घाव हो सकते हैं, और रोगजनक के लिए प्रवेश बिंदु के रूप में काम कर सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

इस बैक्टीरिया के खिलाफ़ कोई जैविक उपचार संभव नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। रोगजनक के फैलाव को रोकने के लिए कॉपर के यौगिकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन, ऐसे यौगिक पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित स्रोतों से बीज का उपयोग करें.
  • सहिष्णु किस्मों के बारे में पता करें.
  • पूरे बीज कंद को लगाएं और इसके कुछ हिस्सों को नहीं.
  • आलू को ठंडी मिट्टी में 10 डिग्री सेल्सियस के नीचे तापमान पर न लगाएं.
  • पर्याप्त उर्वरीकरण का उपयोग करें, विशेष रूप से नाइट्रोजन के साथ.
  • 2-3 साल के लिए गैर-धारक पौधों के साथ फ़सलों का चक्रीकरण करें (क्रॉप रोटेशन).
  • खेतों से उचित रूप से पानी निकालें और अत्यधिक सिंचाई से बचें.
  • खेतों की निगरानी करें और संक्रमित पौधों को हटा दें.
  • रखरखाव के काम या कटाई के दौरान पौधों को चोटों से बचाएं.
  • फ़सल के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले औज़ार, भंडार, और काटने के लिए इस्तेमाल मशीन को कीटाणुरहित करें.
  • कटाई के बाद खेत से पौधे का सारा मलबा हटाएं.
  • फ़सल काटने के बाद सौर विकिरण के लिए मिट्टी को अकेला छोड़ दें.
  • सूखी परिस्थितियों में आलू काटें और बिना तापमान के उतार-चढ़ाव के एक अच्छी हवादार जगह में उन्हें स्टोर करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!