- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने का छिद्रक

कीट

Diatraea saccharalis


संक्षेप में

  • गन्ने का छिद्रक गन्ने के तनों तथा छिलकों के ऊतकों पर पलता है.
  • अंततः पौधे में हर जगह छिद्र पाए जाते हैं.
  • परिपक्व पौधे झुकने लगते हैं या टूट जाते हैं।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

लार्वा द्वारा तनों और छिलकों को खाए जाने के कारण हुई “पिनहोल” क्षति तथा छिद्र होते हैं। नए पौधों में, एक लक्षण जिसका नाम डेड हार्ट है, तनों के अंदरूनी ऊतक खा लिए जाते हैं। पुराने पौधों में छोटे लार्वा पत्तियों के खोल तथा किनारों में छिद्र करके घुस जाते हैं। जैसे-जैसे लार्वा बड़ा होता है, वे डंठलों में सुरंग बनाने लगते हैं। अत्यधिक संक्रमित पौधे कमज़ोर हो जाते हैं तथा छोटे रह जाते हैं और अंततः जलवायु परिस्थितियाँ अनुकूल न होने पर झुक या टूट जाते हैं। अंततः पौधों में हर स्थान पर छिद्र पाए जाते हैं और उपज तथा रस की गुणवत्ता कम होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

तापमान जीवन चक्र की लम्बाई निर्धारित करता है। लार्वा को विकास के लिए ऊष्ण मौसम में आम तौर पर 25 से 30 दिनों की आवशयकता होती है, तथा ठन्डे मौसम में लगभग 5 दिन अधिक लगते हैं। सर्दियों में तेज़ बारिश और कम तापमान छिद्रकों की जनसंख्या कम कर देता है। गर्म तापमान तथा कम वर्षा कीट के जीवित रहने तथा विकास में सहायक होता है। कम जुताई वाली कृषि कीट को संक्रमित फसल अवशेषों में सर्दियों में जीवित रहने में सहायक होती है। प्राकृतिक शिकारियों की कमी से भी ऐसा ही होता है। नाइट्रोजन उर्वरक का उच्च स्तर भी जीवित रहने में सहायक होता है।

जैविक नियंत्रण

छिद्रकों के 27-100% तक अण्डों को मारने के लिए गन्ने के बीजों को 25.6 डिग्री से. पर 72 घंटों के लिए पानी में भिगो कर रखें। इस उपचार के बाद अंकुरण प्रभावित नहीं होता है, तथा भीगे हुए बीज बेहतर तौर पर खड़े हो पाते हैं। डी. सैशारेलिस की जनसंख्या को अनेक परजीवियों तथा शिकारियों के द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। अण्डों की संख्या को कम रखने के लिए चींटियों, विशेषकर लाल फायर चींटियों सोलेनोप्सिस इनविक्टा, का प्रयोग करें अथवा ट्राईकोग्रामा नामक परजीवी कीट का उपयोग करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए, जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। आर्थिक हानि पहुंचाने लायक जनसँख्या के लिए खेतों पर निगरानी रखें। वयस्क लार्वा को डंठलों में सुरंग बनाने से रोकने के लिए क्लोरेन्ट्रेनिलिप्रोल, फ्लुबेंडियामाइड वाले कवकरोधकों या कीटों के विकास नियंत्रकों का प्रयोग करें।

निवारक उपाय

  • सहनशील तथा प्रतिरोधक प्रजातियों का प्रयोग करें.
  • छिद्रक द्वारा क्षति पहुंचाए गए गन्ने के बीजों का प्रयोग करने से बचें.
  • छिद्रकों के जीवित रहने तथा चोटों को कम करने के लिए मिट्टी में सिलिकॉन मिलाएं.
  • जनसंख्या को कम करने के लिए गन्ने की फसल से पूर्व की वनस्पति को जला दें.
  • फसल काटने के बाद खेत में बचे अवशेषों को जल्द ही जला कर, डिस्क करके या पानी में डुबो कर नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!